scorecardresearch
 

पाकिस्तान की मदद कर भारत को उकसा रहा है चीन : रतन टाटा

टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा है कि उनकी राय में चीन की आर्थिक ताकत का दबदबा भारत के लिए चिंता का विषय नहीं है और भारत को उत्तर के अपने इस पड़ोसी के साथ मित्रता का रास्ता निकालना होगा.

X
रतन टाटा
रतन टाटा

टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने कहा है कि उनकी राय में चीन की आर्थिक ताकत का दबदबा भारत के लिए चिंता का विषय नहीं है और भारत को उत्तर के अपने इस पड़ोसी के साथ मित्रता का रास्ता निकालना होगा.

उन्होंने कहा कि ‘भारत-चीन के बीच दुश्मनी नहीं है लेकिन संबंध बहुत अच्छे भी नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘आप जानते हैं कि चीन ने भारत के खिलाफ कभी भी विरोधी का काम नहीं किया और मेरे हिसाब से भारत को चिंता है कि चीन की तेजी से बढ़ती आर्थिक शक्ति भारत को दबा न दे, पर वास्तव में हमें ऐसा लगता नहीं है. शक्ति को लेकर चिंतित है जिसे हम वास्तव में नहीं देखते.’

यह पूछे जाने पर क्या वह चीन को लेकर चिंतित हैं, उन्होंने कहा, ‘नहीं, मैं चिंतित नहीं हूं. मेरी इच्छा है कि हमें अच्छी मित्रता का रास्ता निकालना चाहिए.’

टाटा ने कहा, ‘मेरा पूरा विश्वास है कि भारतीय अर्थव्यवस्था को अभी खुलकर खेलने का मौका नहीं मिला है.’

उन्होंने कहा, ‘..मैं चीन के साथ सतत मजबूत संबंधों को तरजीह दूंगा और मुझे लगता है कि यह किया जा सकता है.’

दोनों देशों के बीच जटिल प्रकृति का विश्लेषण करते हुए उन्होंने कहा, ‘मेरे हिसाब से भारत की तरफ से यह चिंता है कि चीन क्षेत्र (एशिया) में प्रभावशाली बनने की कोशिश कर रहा है और दूसरी तरफ चीन में भी यही चिंता है कि भारत क्षेत्र में प्रभुत्व बढाने की कोशिश कर रहा है.’

टाटा ने आगे कहा कि निश्चित रूप से चीन, पाकिस्तान की मदद कर रहा है और उसे हथियारों की आपूर्ति कर रहा है और यह भारत के लिये उकसाने वाला है.

कार बाजार के रूप में चीन की स्थिति के बारे में टाटा ने कहा, ‘चीन में बाहर की कार बेचना बड़ा मुश्किल काम है. जेएलआर का हमने अधिग्रहण किया है. यह चीन में कारखाना लगा रही है क्योंकि चीन वह कार तो चाहता है पर टाटा मोटर्स से नहीं.’

उन्होंने कहा कि टाटा समूह चीन से वाहनों के उपकरण लेने पर विचार करेगी. इस क्षेत्र में चीन ने काफी प्रगति की है.

टाटा ने कहा, ‘चीन ने वाहन क्षेत्र में अल्पकाल में काफी कुछ हासिल किया है, उन्होंने कारें बनायी हैं. वास्तव में भारत ने उतने ही समय में जो कुछ किया है, चीन उससे आगे निकल गया है.’

वैश्विक आर्थिक परिदृश्य पर टाटा ने कहा, ‘स्थिति थोड़ी खराब है.’

उनके अनुसार यूरोप तथा ब्रिटेन को पुनरूद्धार के रास्ते पर लौटने में वक्त लगेगा, इसके लिये काफी प्रयास करने होंगे.

हालांकि उन्होंने कहा कि यूरोप के मुकाबले अमेरिका में आर्थिक पुनरूद्धार तेजी से होगा. इसका कारण वहां की शोधपरक उद्यमशिलता है.

टाटा ने कहा कि एशिया, अफ्रीका तथा लातिन अमेरिका के कुछ भागों में काफी मौके हैं. उन्होंने कहा कि एशियाई देशों के बीच आपास में व्यापार पहले के मुकाबले ज्यादा रह सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें