scorecardresearch
 

BRICS सम्मेलनः पीएम बोले, व्यापार में अड़ंगा न बने राजनीतिक विवाद

अमेरिका और ईरान के बीच परमाणु मुद्दे को लेकर भारी खींचतान के बीच भारत ने आज यहां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के पहले दिन ऐसे राजनीतिक विवादों से बचने पर जोर दिया जिनके कारण विश्व का तेल बाजार प्रभावित होता हो और देशों के बीच व्यापार में बाधा उत्पन्न होती हो.

मनमोहन सिंह मनमोहन सिंह

अमेरिका और ईरान के बीच परमाणु मुद्दे को लेकर भारी खींचतान के बीच भारत ने आज यहां ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के पहले दिन ऐसे राजनीतिक विवादों से बचने पर जोर दिया जिनके कारण विश्व का तेल बाजार प्रभावित होता हो और देशों के बीच व्यापार में बाधा उत्पन्न होती हो.

पांच प्रमुख विकासशील देशों-ब्राजील, रूस, भारत ,चीन और दक्षिण अफ्रीका के इस मंच की चौथी शिखर बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने यह भी कहा कि ब्रिक्स देशों के बीच विकासशील देशों के विकास की जरूरतों के लिए एक अलग ‘साउथ-साउथ डेवलपमेंट बैंक’ गठित करने के प्रस्ताव की ‘और गहराई से ’ समीक्षा करने पर सहमति बनी है.

सम्मेलन में ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार में वृद्धि के उपायों पर चर्चा के साथ साथ क्षेत्रीय स्थिति की समीक्षा की जाएगी. सिंह ने ब्रिक्स के सदस्य देशों से अपील की कि वे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में व्यवस्थागत सुधार जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों पर एक स्वर में बोलें.

‘दिल्ली शिखर सम्मेलन’ में ब्राजील की राष्ट्रपति दिलमा रोसेफ, चीन के राष्ट्रपति हू जिंताओं, दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा और रूस के राष्ट्रपति दिमित्री मेदवेदेव भाग ले रहे हैं.

प्रधानमंत्री सिंह ने कहा, ‘हमें ऐसे राजनीतिक विवादों से कतई दूर रहना चाहिए जिनसे वैश्विक ऊर्जा (तेल) बाजार में अस्थिरता पैदा होती है और व्यापार प्रवाह प्रभावित होता है. हमें आर्थिक वृद्धि में फिर से तेजी लाने के लिए नीतियों में समन्वय भी सुनिश्चत करना चाहिए.’

मनमोहन सिंह ने ईंधन, अनाज और जल की सुरक्षा के मुद्दों पर ‘अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सहयोग का रास्ता निकालने’ पर बल देते हुए कहा कि कि विश्व की 40 प्रतिशत आबादी वाले ब्रिक्स देशों में इन बुनियादी चीजों की तंगी पूरी कहानी में व्यवधान खड़ा कर सकती है. उन्होंने पानी की कमी के मुद्दे पर भी ध्यान देने और इसके लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग का रास्ता निकालने पर बल दिया.

पानी के बारे में उन्होंने कहा ‘हमें इस समस्या का सामाना करने में एक दूसरे के अनुभवों से सीख लेनी होगी.’

उन्होंने कहा कि ब्रिक्स के सदस्य देश जी-20 के सदस्य भी है. इस नाते उन्हें मिल कर ऐसा समाधान निकालने का प्रयास करना चाहिए कि ऋण संकट से जूझ रहे यूरोपीय देश अपनी खुद अपनी मदद कर सकें. उन्होंने वैश्विक आर्थिक वृद्धि को फिर गति देने के लिए आपसी नीतियों में समन्वय सुनिश्चित करने पर भी बल दिया.

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘ब्रिक्स के सभी सदस्य देश बड़े हैं. इन सबकी अर्थव्यवस्थाएं वैविध्यतापूर्ण है. हमें इस बात का विशेष प्रयास करना चाहिए कि बिक्स के अंतर हम एक दूसरे की शक्ति का आपसी हित में लाभ उठाने के रास्ते निकाल सकें. हमें अपने व्यवसायियों के बीच संपर्क बढ़ाने उपाय करने चाहिए. व्यापारियों के लिए वीजा जारी करने में आसानी जैसे मुद्दों को प्रथमिकता दिया जाना जरूरी है. ’

उन्होंने कहा, ‘बड़े व्यापारिक देश होने के नाते ब्रिक्स के सदस्य देशों का बड़ा हित इसी बात में हैं व्यापार और निवेश के प्रवाह में बाधाएं खत्म हों और संरक्षणवादी उपायों से बचा जाए.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें