scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब

एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 1/12
बीते 19 सालों से लगातार भारत के नंबर वन न्यूज चैनल 'आजतक' के हिंदी जगत के महामंच 'एजेंडा आजतक' के आठवें संस्करण के दूसरे दिन गृहमंत्री अमित शाह से लेकर भारतीय सेना के प्रमुख बिपिन रावत, मनोरंजन क्षेत्र के खिलाड़ी यानी अक्षय कुमार से लेकर क्रिकेट जगत के दिग्गज युवराज सिंह और हरभजन सिंह समेत राजनीति, मनोरंजन और खेल जगत के तमाम दिग्गज एजेंडा आजतक के मंच पर पहुंचे और तीखे से तीखे सवालों का बड़ी ही बेबाकी और सौम्यता के साथ जवाब दिया. बता दें कि एजेंडा आज तक का आगाज सोमवार को हुआ था और दूसरे दिन देश में नागरिकता संशोधन कानून से लेकर देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था तक पर सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों ने बेबाकी से अपनी राय रखी.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 2/12
अभी तक बच्चों ने ठीक से कानून पढ़ा नहीं: अमित शाह

नागरिकता संशोधन कानून पर देश के ज्यादातर हिस्सों में हो रहे बवाल और प्रदर्शन को लेकर एजेंडा आजतक के मंच पर गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर 224 में से सिर्फ 22 यूनिवर्सिटी में विरोध हुआ है. अभी तक बच्चों ने ठीक से कानून पढ़ा नहीं है. पहले वे इसे ढंग से पढ़ लें. सरकार पूरी तरह से बातचीत करने को तैयार है. स्टूडेंट्स की समस्याओं को जरूर सुनेंगे.  इतना ही नहीं इस कानून की जरूरत को बताते हुए अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस ने देश का विभाजन धर्म के आधार पर किया. ये नहीं होना चाहिए था. इसमें बहुत से लोगों का नुकसान हुआ. 1950 में नेहरू और लियाकत अली खान में समझौता हुआ कि दोनों देश अपने अल्पसंख्यकों की सुरक्षा करेंगे. तब से लेकर अब तक के आंकड़ों को देखिए, अल्पसंख्यकों की संख्या कम हो गई. जब नेहरू-लियाकत समझौते पर अमल नहीं हुआ. तब ये करने की जरूरत पड़ी. कांग्रेस ने 70 साल तक अल्पसंख्यकों पर ध्यान नहीं दिया. उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून से किसी को रत्ती भर नुकसान नहीं होगा.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 3/12
बोलने का अधिकार है लेकिन देश के खिलाफ बोलने पर कार्रवाई: रविशंकर

एजेंडा आजतक के मंच पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने यूनिवर्सिटी में CAA के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को लेकर कहा कि नागरिकता कानून का विरोध कर रहे छात्रों से बात करेंगे, लेकिन टुकड़े-टुकड़े गैंग को छोड़ेंगे नहीं. अगर ये शांति बिगाड़ने की कोशिश करेंगे तो उनपर कार्रवाई होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद अपने ट्वीट में सबको समझा रहे हैं कि नागरिकता बिल से किसी को नुकसान नहीं है. इसलिए छात्र विरोध बंद करें. सरकार उनसे बात करने के लिए तैयार है. देश में बदलते तकनीक और लोगों  को लेकर उन्होंने कहा कि  भारत 130 करोड़ लोगों का देश है. 120 करोड़ मोबाइल हैं. 124 करोड़ आधार कार्ड है. हम इन सबको जोड़ रहे हैं ताकि सभी योजनाओं का लाभ लोगों को मिले. हमने 8 लाख करोड़ रुपए लोगों की भलाई के लिए भेजे. डेढ़ लाख करोड़ रुपए बचाए. हम डिजिटल इंडिया में तब्दील हो रहे हैं. हम सभी टेक्नोलॉजी का स्वागत करते हैं लेकिन निजता का ख्याल रखना होगा.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 4/12
5 करोड़ नौकरियां सृजित करने के लिए बना रहे योजनाएं: गडकरी

मोदी सरकार में सबसे सक्रिय मंत्रियों में गिने जाने वाले केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने एजेंडा आजतक के मंच पर देश में बढ़ रही बेरोजगारी को लेकर  कहा कि पांच करोड़ नौकरियां सृजित करने का टारगेट था. हम कोशिश कर रहे हैं. नई योजनाएं बना रहे हैं. परिस्थितियां काफी चुनौतीपूर्ण हैं. इसमें थोड़ा टाइम लगेगा. नौकरियों के लिए कई प्लान हैं. मेरे डिपार्टमेंट और कॉर्मस मिनिस्ट्री ने मिलकर नई योजना बनाई है.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 5/12
जब पीयूष गोयल ने दिया US मीडिया का उदाहरण

एजेंडा आजतक 2019 के दूसरे दिन एक विशेष सत्र में केन्द्रीय वाणिज्य, उद्योग और रेल मंत्री पीयूष गोयल  ने शिरकत की. चर्चा के दौरान नागरिकता कानून को लेकर 22 विश्वविद्यालय में छात्रों के विरोध से जुड़े एक सवाल पर बात करते हुए पीयूष गोयल ने कहा कि हम सब की जिम्मेदारी बनती है कि हम उत्तेजनाएं कम करके रियलिटी लोगों के सामने रखें. इस दौरान केन्द्रीय मंत्री ने अमेरिका में घटी एक आतंकवादी घटना का उदाहरण देते हुए वहां की मीडिया की तारीफ की. गोयल ने कहा कि वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के वक्त यूएस मीडिया ने खुद को सेल्फ रेगुलेट किया था. एक भी घिनौनी तस्वीर सामने नहीं आई. किसी भी चैनल ने बढ़ा-चढ़ा कर नहीं दिखाया. मीडिया चाहती तो एक समुदाय के खिलाफ गुस्सा भड़क सकता था. लेकिन उन लोगों ने टोन डाउन कर सब खत्म कर दिया.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 6/12
रघुराम राजन राय दे सकते हैं पर उन्हें तथ्य नहीं पताः प्रकाश जावड़ेकर

एजेंडा आज तक के मंच पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर भी पहुंचे और उन्होंने भारत की कमजोर अर्थव्यवस्था को लेकर रघुराम राजन के बयान पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि रघुराम राजन भारतीय अर्थव्यवस्था पर अपनी राय रख सकते हैं, लेकिन उन्हें तथ्य पता नहीं है. प्रधानमंत्री कार्यालय कभी भी काम में दखल नहीं देता.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 7/12
अब कम समय में जीत जरूरी: जनरल रावत

एजेंडा आजतक के मंच पर दूसरे दिन राजनेताओं और मंत्रियों के अलावा देश के थल सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी पहुंचे. एजेंडा आजतक के वंदे मातरम सेशन में चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ जनरल बिपिन रावत ने कहा कि पारंपरिक युद्ध का तरीका बदल गया है. अब 3-4 दिन तक के लिए युद्ध नहीं चलता. आपके पास समय कम होता है युद्ध जीतने के लिए. क्योंकि इसके बाद संयुक्त राष्ट्र का दबाव, दुश्मन देशों की एटॉमिक हमले की धमकी आने लगती है. इसलिए हमें कम समय में विजय हासिल करनी होती है.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 8/12
PM मोदी बोल रहे हैं जॉर्ज बुश की भाषा: कन्हैया कुमार

एजेंडा आज तक के सेशन 'पढ़ाई की लड़ाई' में छात्रों के मुद्दे और जामिया में प्रदर्शन पर पूर्व छात्र नेता कन्हैया कुमार भी पहुंचे और सीएए को लेकर देश के प्रधानमंत्री पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि वो जॉर्ज बुश की भाषा बोल रहे हैं. यानी जो बुश के साथ नहीं है वो लादेन के साथ हैं. संविधान की मर्यादा के खिलाफ खिलवाड़ चल रहा है. विपक्ष चुप बैठा है. अब जब छात्र अत्याचार के खिलाफ खड़े हैं तो उन पर लाठियां बरसाई जाती हैं.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 9/12
लोगों को मोदी के नाम पर भड़काया जा रहा है: रवि किशन

एजेंडा आज तक पर बीजेपी के गोरखपुर से सांसद रवि किशन ने भी शिरकत की. उनसे जब पूछा गया कि वो हिंदू राष्ट्र का समर्थन क्यों करते हैं? इस पर रवि किशन ने कहा कि मैं इतिहास का छात्र हूं. इस देश में हिंदू थे. मैं एक पुजारी का बेटा हूं. पूरी बिरादरी हिंदू थी. ईसाई, यहूदी सबका अपना-अपना देश है. 2014 से पीएम मोदी के आने के बाद ना कोई हिंदू-मुस्लिम में दंगा हुआ और ना किसी मुसलमान की प्रॉपर्टी ली गई. कौन इस समुदाय को भड़का दिया कि मोदी जी आने वाले हैं. आप सुरक्षित नहीं हो. क्यों मोदी जी के नाम पर इन्हें डराया जा रहा है. सब जगह बम-बम है.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 10/12
पानी जितनी साफ नहीं राजनीति: गौतम गंभीर

दिग्गज क्रिकेटर से राजनेता बने सांसद गौतम गंभीर से एजेंडा आजतक के मंच पर जब पूछा गया कि राजनीति जलेबी की तरह टेढ़ी है या पोहे जैसी नमकीन ? इस पर दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर ने कहा कि राजनीति पानी की तरह साफ तो नहीं है. लेकिन सच्ची नीयत और सच्चे इरादे के साथ उतरेंगे तो कोई दिक्कत नहीं होगी. मुझे अभी तक कोई परेशानी नहीं हुई है और अभी तक सब ठीक चल रहा है. राजनीति में अच्छे काम पर भी विपक्ष क्रिटिसाइज करेगा पर क्रिकेट में ऐसा नहीं है.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 11/12
मेरी फिल्मों के कुछ शब्दों पर बीप क्यों? अक्षय कुमार

बॉलीवुड अभिनेता और खिलाड़ी कुमार के नाम से चर्चित अभिनेता अक्षय कुमार ने भी एजेंडा आजतक के सेशन में शिरकत की. उन्होंने कहा मेरी फिल्में बहुत से लोगों को सिखाती हैं. मेरी नई फिल्म आ रही है उसमें स्पर्म या सीमेन शब्द का उपयोग है. लेकिन एक चैनल ने इसपर बीप बजा दिया. उसे साइलेंट कर दिया. आखिर स्पर्म, सीमेन, सैनिटरी पैड जैसे शब्दों पर बीप क्यों? हर माता-पिता को अपने बच्चों के ये सिखाना चाहिए.
एजेंडा आज तक: अमित शाह से लेकर युवराज तक, तीखे सवाल और उसके जवाब
  • 12/12
युवराज ने बताया क्यों कोहली की टीम नहीं जीत पाई वर्ल्ड कप 2019

एजेंडा आज तक के मंच पर भारतीय टीम के चैम्पियन ऑलराउंडर रहे युवराज सिंह ने भी शिरकत की. जब उनसे इसी साल हुए वर्ल्ड कप में टीम की हार का कारण पूछा गया तो टीम इंडिया की हार के पीछे की बड़ी वजह का खुलासा किया है. पांच दिन पहले ही 38 साल के हुए युवराज सिंह ने मंगलवार को एजेंडा आजतक के दौरान कहा कि इस वर्ल्ड कप के पीछे हार की बड़ी वजह खराब प्लानिंग थी. उन्होंने टीम प्रबंधन की कड़ी आलोचना की और कहा कि इस 50 ओवरों के टूर्नामेंट के लिए उनकी योजना पूरी तरह से गलत थी. खिताब का प्रबल दावेदार भारत विश्व कप में नंबर चार पर स्थापित बल्लेबाज के बिना उतरा था, जिससे टीम प्रभावित हुई और विराट कोहली की टीम को सेमीफाइनल से बाहर होना पड़ा.

(फोटो क्रेडिट - यासिर इकबाल, चंद्रदीप कुमार, शेखर घोष)