scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम

बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 1/7
नेपाल भारत के खिलाफ लगातार ऐसी हरकतें कर रहा है जिससे दोनों देशों के बीच जारी तनाव घटने की जगह और बढ़ सकता है. इंजीनियरों को बांध की मरम्मत से रोकने के बाद अब नेपाल की पुलिस ने बिहार के सीतामढ़ी में भारतीय क्षेत्र में हो रहे सड़क निर्माण के काम को रोक दिया है.

(सभी तस्वीरें सांकेतिक हैं)

बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 2/7
नेपाल की सशस्त्र पुलिस बल ने सीतामढ़ी में भिठ्ठामोड़ सीमा के पास बन रही सड़क के काम को रोकते हुए इस पर अपना दावा ठोक दिया. नेपाल की पुलिस ने दावा किया कि ये जमीन उनके देश की है इसलिए भारत यहां कोई निर्माण नहीं कर सकता. बता दें कि सीमा पर इस सड़क का निर्माण भिठ्ठामोड़ चौक से नो मेंस लैंड तक किया जा रहा था.
बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 3/7
निर्माण रुकने के बाद दोनों देशों के अधिकारियों के बीच तनाव बढ़ गया है. निर्माण एजेंसी के कर्मचारी से लेकर वहां के स्थानीय कारोबारी तक नेपाल के इस हरकत पर उग्र हो गए हैं.

बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 4/7
भारत-नेपाल सीमा पर तैनात सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) जवानों ने स्थिति को संभाला और लोगों को शांत कराया. एसएसबी की तरफ से कहा गया है कि दोनों देश के वरिष्ठ अधिकारी मिलकर इस मामले को सुलझा लेंगे.
बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 5/7
एसएसबी के अधिकारी नवीन कुमार ने बताया कि नेपाल की पुलिस ने सड़क निर्माण पर आपत्ति जताते हुए काम को रोक दिया. हालांकि उन्होंने कहा की बातचीत के बाद भी मसले का कोई हल नहीं निकल पाया है.
बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 6/7
वहीं भिठ्ठा थाने के प्रभारी ने कहा कि बातचीत की पहल के बाद भी निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया है और इसकी जानकारी प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों को दे दी गई है.

बार-बार भारत से उलझ रहा नेपाल, अब सीतामढ़ी बॉर्डर पर रोका सड़क का काम
  • 7/7
बता दें कि इससे पहले नेपाल ने भारतीय इंजीनियरों को बांध के मरम्मत का काम करने से भी रोक दिया था. तब भारत और बिहार सरकार के हस्तक्षेप के बाद विवाद सुलझ पाया था.