scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 1/6

पूरे देश में गुरुवार को मकर संक्रांति का पर्व धूमधाम से मनाया जा रहा है. ऐसे में आज हम जानते हैं एक ऐसे मंदिर के बारे में जहां सिर्फ मकर संक्रांति के दिन ही सूर्य की पहली किरण, सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है. यह मंदिर मध्‍य प्रदेश के खरगौन जिले में है. (खरगौन से उमेश रेवलिया की रिपोर्ट)

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 2/6

प्रसिद्ध नवग्रह मंदिर के पुजारी लोकेश जागीरदार का कहना है कि मकर संक्रांति, सूर्य की आगवानी का पर्व होता है. नवग्रह मंदिर सूर्य प्रधान है. यहां गर्भग्रह में सूर्य की मूर्ति बीच में विराजित है, मूर्ति के आसपास अन्य ग्रह हैं.
 

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 3/6

मान्यता है कि मकर संक्रांति पर सूर्य की पूजा की जाती है तो नवग्रह की कृपा होती है, वर्षभर के लिए हमें ग्रहशांति का फल मिलता है.

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 4/6

प्राचीन ज्योतिष के सिद्धांतों के अनुसार मंदिर की रचना की गई है. मंदिर में प्रवेश करते समय सात सीढ़ियां हैं जो सात वार का प्रतीक हैं. इसके बाद ब्रह्मा, विष्णु स्वरूप के रूप में मां सरस्वती, श्रीराम और पंचमुखी महादेव के दर्शन होते हैं, फिर गर्भगृह में जाने के लिए जहां 12 सीढ़ियां उतरना होती हैं जो 12 महीने का प्रतीक हैं. 
 

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 5/6

मकर संक्रांति पर सूर्य मंदिर में सूर्य की पहली किरण, मंदिर के गुंबद से होते हुए भगवान सूर्य की मूर्ति पर पड़ती है. संक्रांति पर प्राचीन नवग्रह मंदिर में सुबह 3 बजे से लोगों की भीड़ लग जाती है. देशभर के श्रद्धालु यहां इस नजारे को देखने आते हैं.

भारत का प्रसि‍द्ध मंदिर जहां सिर्फ मकर संक्रांति पर सूर्य प्रतिमा पर पड़ती है पहली किरण
  • 6/6

गर्भग्रह में नवग्रह के दर्शन होतेे हैंं. इसके बाद दूसरे मार्ग पर फिर 12 सीढ़ियों से ऊपर चढ़ते हैं जो 12 राशि का प्रतीक है. इस प्रकार से सात वार, 12 महीने, 12 राशियां और नवग्रह, इनके बीच में हमारा जीवन चलता है और उसी आधार पर मंदिर की रचना की गई है.