scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 1/12
कोरोना वायरस से इस समय पूरी दुनिया लड़ रही है और कई देशों के वैज्ञानिक और विशेषज्ञ वैक्सीन की खोज में जुटे हुए हैं. हालांकि अब तक इसमें कोई सफलता नहीं मिली है. अगर साल के अंत तक भी टीका खोजने में सफलता मिलती है तो यह संभवतः दुनिया में पहला ऐसा टीका होगा जो इतने कम समय में विकसित होगा. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन के अंतिम ट्रायल में पहुंचने की खबरों ने इस जानलेवा महामारी के खिलाफ वैक्सीन आने की उम्मीदों को पहले के मुकाबले काफी बढ़ा दिया है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 2/12
वर्तमान में, दुनिया भर में लगभग 140 टीके परीक्षण के विभिन्न चरणों में हैं. इन सभी का एक ही लक्ष्य है कोरोना वायरस को हराकर इस महामारी पर विजय पाना. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, 16 ग्रुप और कंपनियों ने टीके के अंतिम चरण के ​​परीक्षणों में प्रवेश किया है.  इनमें से पांच का चीन में, तीन का यूएस में, दो का यूके और एक-एक का ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी और रूस में अध्ययन किया जा रहा है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 3/12
नई रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय-एस्ट्रा-ज़ेनेका वैक्सीन पर काम कर रही टीम बड़े पैमाने पर तैयारी के साथ परीक्षण की दौड़ में सबसे आगे है. लगभग 800 लोगों को ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के टीके लगाए जाएंगे. इस टीके को विकसित करने वालों ने पहले ही टीके के 10 करोड़ खुराक के उत्पादन के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. यूके में एक अन्य मानव परीक्षण में, 300 लोगों को लंदन के इंपीरियल कॉलेज में  टीका लगाया जाएगा.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 4/12
एस्ट्रा-ज़ेनेका कंपनी ने अपनी वैक्सीन के उत्पादन और आपूर्ति के लिए कम से कम 10 सौदों पर हस्ताक्षर किए हैं जिन्हें AZD1222 कहा जा रहा है. इसे पहले ChAdOx1 nCoV-19 के रूप में जाना जाता था. कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में शामिल ब्राजील ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के स्थानीय उत्पादन के लिए एक समझौते की घोषणा की है.

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 5/12
अमेरिका की भी एक कंपनी कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर परीक्षण के अंतिम चरणों में है. इसे मॉडर्न इंक कंपनी द्वारा विकसित किया जा रहा है. कंपनी पहले से ही अपने वैक्सीन mRNA-1273 के लिए दूसरे चरण की टेस्टिंग रिजल्ट को सार्वजनिक कर चुकी है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 6/12
मॉडर्न ने दवा बनाने वाली कंपनी कैटलेंट इंक के साथ अपने वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं. इस साल सितंबर के अंत तक उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है. मॉडर्न ने जुलाई में 30,000 लोगों पर अपने वैक्सीन के अंतिम चरण के परीक्षण की योजना बनाई है.

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 7/12
कोरोना वायरस वैक्सीन की पैकेजिंग, लेबलिंग, भंडारण और वितरण की जिम्मेदारी कैटलेंट कंपनी पर होगी. कैटलेंट ने एस्ट्राज़ेनेका, और जॉनसन एंड जॉनसन के साथ भी साझेदारी की है. यह टीम अलग से कोरोना वायरस वैक्सीन पर काम कर रही है और ट्रायल जारी है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 8/12
सनोफी-ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन कंपनी भी कोरोना वायरस की वैक्सीन विकसित करने में जुटी हुई है. फ्रांसीसी कंपनी सनोफी ने इसके लिए ब्रिटिश दवा फर्म जीएसके के साथ समझौता किया है. सनोफी ने कहा है कि यह टीका कई लोगों पर काम कर रहा है और 2020 में 10 करोड़ खुराक और 2021 में 100 करोड़ खुराक उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 9/12
जर्मन फर्म बीएनटेक कोरोना वायरस वैक्सीन के उत्पादन के लिए दिग्गज फार्मास्यूटिकल कंपनी फाइजर के साथ साझेदारी कर रही है. इस कंपनी का टीका आरएनए तकनीक पर आधारित है, जिसके लिए जर्मनी और अमेरिका में कई लोगों पर परीक्षण किए जा रहे हैं. फाइजर ने अक्टूबर 2020 तक वैक्सीन का व्यावसायिक उत्पादन शुरू करने की उम्मीद जताई है.
कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 10/12
चीनी कंपनी सिनोवैक बायोटेक कोरोना वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल कर रही है. चीन और ब्राजील मिलकर कोरोनावैक नामक टीके के तीसरे चरण की टेस्टिंग की तैयारी में जुटी हुई है. इन्होंने बताया कि पहले दो चरणों के परीक्षणों के बाद जिन मरीजों पर इसकी टेस्टिंग की गई थी वो पूरी तरह सुरक्षित हैं.

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 11/12
एक अन्य चीनी कंपनी CanSino Biologics भी कोरोना वायरस के टीके पर काम कर रही है. कंपनी ने दावा किया है कि जितने भी लोगों पर उसके वैक्सीन का ट्रायल किया गया है उनमें से 80 फीसदी लोगों में 7 दिनों के भीतर प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को ट्रिगर किया गया है.

कब आएगी कोरोना की वैक्सीन, कहां तक पहुंचा ट्रायल? जानिए
  • 12/12
अमेरिकी बायोटेक फर्म नोवाक्स ऑस्ट्रेलिया में अपने प्रोटीन-आधारित NVX-CoV2373 कोरोना टीके का मानव परीक्षण कर रही है. यह जुलाई तक परिणामों के आने की उम्मीद है, परीक्षण में पशुओं पर कम खुराक ने भी प्रभावी परिणाम दिखाए हैं. नोवाक्स की इस वर्ष 10 करोड़ खुराक और 2021 में 150 करोड़ खुराक का उत्पादन करने की योजना है.