scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

US: कोरोना वैक्सीन लगवाने के 25 मिनटों बाद लड़खड़ाया बुजुर्ग, मौके पर ही हुई मौत

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 1/5

अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में एक बुजुर्ग की कोरोना वायरस वैक्सीन लगाने के 25 मिनटों बाद ही मौत हो गई है. न्यूयॉर्क स्टेट हेल्थ कमिशनर डॉक्टर हावर्ड जुकर ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद 15 मिनटों तक ये शख्स क्लीनिक में ही मौजूद था और इस दौरान उसे किसी तरह की शिकायत नहीं थी. हालांकि इसके कुछ देर बाद जब ये शख्स बाहर निकला तो वो लड़खड़ा कर गिर गया. वहां मौजूद सिक्योरिटी के लोग कुछ सेकेंड्स में इस इंसान के पास पहुंच गए थे लेकिन स्थानीय अस्पताल पहुंचने के कुछ समय बाद ही इस शख्स को मृत घोषित कर दिया गया था. (सभी तस्वीरें- प्रतीकात्मक)

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 2/5

इस शख्स के नाम को लेकर अब तक कोई खुलासा नहीं किया गया है. अभी तक ये भी साफ नहीं है कि इस व्यक्ति को कौन सी कोरोना वैक्सीन दी गई थी. वही जुकर ने अपने स्टेटमेंट में कहा कि वे और बाकी कई पब्लिक हेल्थ विशेषज्ञ मानते हैं कि ये वैक्सीन सुरक्षित है और मास्क लगाकर, सोशल डिस्टैंसिंग को बढ़ावा देकर इस महामारी को खत्म किया जा सकता है. मैं सभी न्यूयॉर्क में रहने वाले लोगों को वैक्सीन लगवाने की अपील करता हूं.  

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 3/5

अमेरिका में जैकब जेविट्स सेंटर जनवरी में एक मास वैक्सीनेशन साइट के तौर पर खुला था और न्यूयॉर्क शहर में ऐसी कई साइट्स हैं.  ये व्यक्ति मैनहेट्टन के जैकब जेविट्स कन्वेंशन सेंटर वैक्सीन लगवाने पहुंचा था. न्यूयॉर्क में अब तक 1 मिलियन लोगों को वैक्सीनेशन दी जा चुकी है वही अमेरिका में रोज 13 लाख शॉट्स वैक्सीनेशन के दिए जा रहे हैं. अब तक 42 मिलियन डोज अमेरिका में लोगों को दी गई है और इस देश में 10 प्रतिशत जनसंख्या को कम से कम एक बार वैक्सीन लगाई जा चुकी है. 

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 4/5

गौरतलब है कि ये अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि इस शख्स की मौत वैक्सीन की वजह से हुई है या नहीं.  बता दें कि वैक्सीन के चलते होने वाले प्रतिकूल रिएक्शन्स बेहद दुर्लभ होते हैं और दिसंबर में लॉन्च होने वाली इन वैक्सीन्स ने जहां लाखों-करोड़ों लोगों को मदद पहुंचाई है वही कुछ लोगों को रहस्यमयी तरीके से अपनी जान भी गंवानी पड़ी है. 
 

प्रतीकात्मक तस्वीर
  • 5/5

इससे पहले पोलैंड में 58 साल की महिला ड्रेन भी फाइजर वैक्सीन लेने के एक दिन के अंदर चल बसी थीं. वारसॉ के एक क्लीनिक में ड्रेन ने इस वैक्सीनेशन को लगवाया था और वे भी वैक्सीनेशन लगवाने के 15 मिनटों तक क्लीनिक में रूकी रही थीं. हालांकि अगले दिन उनकी मृत्यु हो गई थी. इस मामले में क्लीनिक के अधिकारियों का कहना था कि इस बात के कोई सबूत नहीं मिल पाए हैं कि इस महिला की मौत वैक्सीन के चलते हुई है.