scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

सच्चे प्यार की तलाश में अनूठा प्रयोग, इतने महीनों तक हथकड़ियों से बंधा रहेगा ये कपल

एलेक्जेंडर और विक्टोरिया
  • 1/5

यूक्रेन का एक कपल बेहद अनूठे प्रयोग के तहत एक दूसरे के साथ हथकड़ियों से बंध चुका है. इस कपल ने ये प्रयोग वैलेंटाइन्स डे के दिन किया है. इस प्रयोग के सहारे एलेक्जेंडर और विक्टोरिया नाम का ये कपल अपने रिश्ते को कंफर्ट जोन से बाहर निकालना चाहता है और देखना चाहता है कि क्या वे मुश्किल परिस्थितियों में उनका रिलेशनशिप टिकने में कामयाब हो पाएगा. (फोटो क्रेडिट: सोशल मीडिया)

विक्टोरिया
  • 2/5

एलेक्जेंडर और विक्टोरिया अगले तीन महीनों तक हथकड़ियों से बंधे रहेंगे. इस दौरान उन्हें अपनी दिनचर्या के हर काम को एक दूसरे के सहारे ही निपटाना होगा. यूक्रेन के नेशनल रजिस्टर ऑफ रिकॉर्ड्स में काम करने वाले और इस प्रयोग को सुपरवाइज करने वाले शख्स विटाली जोरीन का कहना है कि इन लोगों ने पूरे होशो-हवास में इस एक्सपेरिमेंट को करने का फैसला किया है. (फोटो क्रेडिट: सोशल मीडिया)

एलेक्जेंडर और विक्टोरिया
  • 3/5

इस कपल ने वैलेंटाइन डे के दिन यूक्रेन के कीव शहर में इस प्रयोग को शुरु किया था.  इस कपल का सबसे पहला टेस्ट तब सामने आया था जब अपने घर से 325 मील दूर वे एक टैक्सी में गए थे और उन्हें मेल या फीमेल पब्लिक टॉयलेट चुनना था. इस कपल ने इसके बाद फैसला किया कि वे साथ ही फीमेल टॉयलेट में जाएंगे. ये देखकर वहां मौजूद क्लीनर हैरान रह गया था. (फोटो क्रेडिट: सोशल मीडिया)

एलेक्जेंडर और विक्टोरिया
  • 4/5

कुछ वीडियो में एलेक्जेंडर और विक्टोरिया खास तरह के कपड़े पहने नजर आए थे. इन कपड़ों में ऊपर से नीचे तक जिप लगी हुई थी ताकि दोनों को ही कपड़े पहनने या बदलने में परेशानी ना हो. इस कपल का मानना है कि वे इस चैलेंज को पूरा करने में कामयाब होंगे. हालांकि उन्हें मालूम है कि पर्सनल स्पेस की कमी के चलते दोनों लोगों के लिए ही ये काफी मुश्किल होने जा रहा है. (फोटो क्रेडिट: सोशल मीडिया)

एलेक्जेंडर और विक्टोरिया
  • 5/5

जोरीन ने कहा कि अगर वे इन तीन महीनों के दौरान अलग होने का फैसला करते हैं तो उन्हें इमरजेंसी सर्विस के विशेषज्ञों की जरूरत पड़ेगी ताकि वे उनकी हथकड़ियों को उनके हाथों से अलग कर सकें. गौरतलब है कि एलेक्जेंडर और विक्टोरिया का ये एक्सपेरिमेंट काफी हद तक रियैल्टी शोज सरीखा है जहां कुछ महीनों के लिए लोगों को विषम परिस्थितयों में रखा जाता है. (फोटो क्रेडिट: सोशल मीडिया)