scorecardresearch
 

Ayodhya Ram Mandir को बनाने में इस्तेमाल पत्थरों की उम्र 1000-1200 साल! जानें खूबियां

Ayodhya Ram Mandir को बनाने में इस्तेमाल पत्थरों की उम्र 1000-1200 साल! जानें खूबियां

अयोध्या में भव्य राम मंदिर बन रहा है और मंदिर बनाने में इस्तेमाल हो रही हर चीज़ चुन-चुन कर लाई जा रही है. और अब वो पत्थर सुर्खियों में है जिनसे श्री राम का मंदिर बनेगा. आपको जानकर हैरानी होगी की प्रभू राम के मंदिर के लिए जिन पत्थरों का इस्तेमाल हो रहा है वो अद्भुत है. रामजन्मभूमि मंदिर में लगने वाले पत्थर जितने खूबसूरत हैं,अपनी मजबूती में उतने ही सख्त और दमदार भी हैं. इतने दमदार कि हजारों साल तक विरासत को सहेजने का माद्दा रखते हैं. मंदिर निर्माण में इस्तेमाल हो रहे पत्थर राजस्थान के बंसी पहाड़पुर के हैं और ये 1 हजार से 1200 साल तक टिकाऊ माने जाते हैं. इस पत्थर की इसी खूबी ने इसे श्रीराम के मंदिर में लगकर चमकने का मौका दिया है. इस पत्थर की और क्या हैं खूबियां, देखिए इस Video में.

Construction at the site of Ayodhya’s proposed Ram Temple is in full swing. A special pink stone delivered all the way from Bansi Paharpur in Rajasthan will be used in the construction of the temple. The stone is considered to have lifespan of 1000 to 1200 years. Watch the video know more about the stone being used in the construction of Ram Temple.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें