scorecardresearch
 

Astrology: क्या Sundara Kanda का पूरा पाठ एक बार में ही करना चाहिए?

Astrology: क्या Sundara Kanda का पूरा पाठ एक बार में ही करना चाहिए?

भगवान हनुमान को जल्द प्रसन्न करने के लिए सुन्दरकाण्ड का पाठ किया जाता है. सुन्दरकाण्ड रामचरित मानस का सबसे प्रख्यात पार्ट है. सुन्दरकाण्ड के पाठ से नकारत्मक ताक्त दूर रहती हैं. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे की क्या सुन्दरकाण्ड का पूरा पाठ एक बार में ही करना चाहिए? ज्योतिष के अनुसार- सुंदरकांड का पाठ एक बार में भी कर सकते हैं. और रुक रूककर भी कर सकते हैं. वैसे अगर रुक रूककर करें तो रोज एक ही समय पर करें. इसमें किसी भी तरह का गैप न आने दें. देखें वीडियो.

Sunderkand is a part of Ramayan composed of harbinger-poet Valmiki. Sunderkand hero is Lord Hanuman. Everyone can read Sunderkand. It has 2885 slokas. In this video astrologer, Shailendra Pandey will discuss should entire path of Sunderkand be done in one go? According to the astrologer, there are no limitations to reading Sunderkand. It can be recited once or can be done in parts. Watch the video to know more.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें