scorecardresearch
 

जानें, Kedarnath में Lingam का स्वरूप भैंसे की पीठ के समान क्यों है

जानें, Kedarnath में Lingam का स्वरूप भैंसे की पीठ के समान क्यों है

इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या है केदारनाथ का महत्व और साथ में जानेंगे केदारनाथ धाम के पीछे पौराणिक इतिहास क्या है. ज्योतिष के अनुसार- उत्तराखंड के चारधाम में से एक धाम केदारनाथ माना जाता है. इस धाम में भगवान शिव का दिव्य ज्योतिर्लिंग विराजमान है. माना जाता है कि , शिव जी यहां भैंसे के रूप में प्रकट हुए थे. पांडवों के अथक परिश्रम से उन्हें यहां शिव जी का दर्शन हुआ. और वे पाप मुक्त भी हुए. इसीलिए यहां के शिव लिंग का स्वरुप भैसे की पीठ के समान है. देखें वीडियो.

Kedarnath temple is situated in Uttarakhand and is known as the holiest Hindu shrines of Lord Shiva. It is being said that temple was initially built by Pandavas. One of the twelve Jyotirlingas is in Kedarnath. The height of the Kedarnath temple is 80 feet, which stands on a huge square platform. A wooden umbrella-like structure is built on the top of the temple with the help of pillars, on which copper is overlaid. Watch the video to know more.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें