scorecardresearch
 

संजय सिन्हा की कहानी: महज किसी को पाने की चाहत प्रेम तो नहीं

किसी को पाने की चाहत प्रेम नहीं है, प्रेम का अर्थ है खुद को खो देना. कोई और आपके लिए खुद से ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाए तब वो प्रेम में बदल सकता है. जब कोई आपके लिए इतना जरूरी हो जाए कि आपको खुद के मिट जाने का अहसास भी ना हो तभी वो प्रेम हो सकता है. देखें- 'संजय सिन्हा की कहानी' का ये पूरा वीडियो.

Sanjay Sinha brings new stories for you every day. He tells you the stories that focus on the warmth in relationships and their importance in your life. Today he will tell you a love story. In which a couple meets in college and they fall in love. To know What is special in this love story, watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें