scorecardresearch
 

शुभ मंगल सावधान: जानिए- क्या होता है पितृ दोष और उसके प्रकार

शुभ मंगल सावधान: जानिए- क्या होता है पितृ दोष और उसके प्रकार

लाल किताब के अनुसार पितृ दोष दो तरह से निर्मित होता है पहला इस जन्म के कर्म और दूसरा पूर्व जन्म के कर्म से. पूर्व जन्म के कर्म है तो यह कुंडली में स्वत: ही आ जाएंगे. कुंडली में यदि गुरु 10वें भाव में है तो पूर्ण दोष माना जाता है. लाल किताब में कुंडली के दशम भाव में गुरु के होने को शापित माना जाता है. सातवें घर में गुरु होने पर आंशिक पितृ दोष हैं. साथ ही आज का राशिफल जानने के लिए शुभ मंगल सावधान देखिए.

According to Laal Kitab, pitra dosh is formed of two types. First is formed with the deeds of this birth an another forms with deeds of our previous birth. Today in this episode we will tell you about how pitra dosh forms and what are its types. You will also get to know about your horoscope, watch Shubh Mangal Saavdhan.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें