scorecardresearch
 

जल्द ही अपनी स्किन पर दिल की धड़कनों को देख सकेंगे आप!

रिसर्चर्स ने इसके लिए नैनोमेश इलेक्ट्रोड्स और स्ट्रेचेबल वायरिंग का इस्तेमाल किया है. इस पैच में माइक्रो एलईडी मॉड्यूल है जो स्किन के साथ आसानी से मुड़ सकती है.

रिसर्चर्स ने डेवेलप की है ये नई तकनीक रिसर्चर्स ने डेवेलप की है ये नई तकनीक

इलेक्ट्रॉनिक स्किन का कॉन्सेप्ट कई बार दुनिया के सामने आ चुके हैं. कुछ ऐसे टैटू भी आए हैं जिसे स्किन पर लगा कर टच स्क्रीन डिस्प्ले की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है. अब स्किन को मोनिटर बनाने की तकनीक ढूंढी गई है.

यूनिवर्सिटी ऑफ टोक्यो के कुछ रिसर्चर्स ने इलेक्ट्रॉनिक स्किन बनाने का दावा किया है. इसमें एलईडी डिस्प्ले है और काफी पतले पैच से इस डिस्प्ले को पतला और फ्लैगजिबल बनाया गया है. इसे स्किन पर लगा कर इसपर रियलटाइम हार्टबीट देख सकते हैं.

रिसर्चर्स ने इसके लिए नैनोमेश इलेक्ट्रोड्स और स्ट्रेचेबल वायरिंग का इस्तेमाल किया है. इस पैच में माइक्रो एलईडी मॉड्यूल है जो स्किन के साथ आसानी से मुड़ सकती है. इसके पीछे मकसद ये है कि हेल्थ से जुड़ी जानकारियां दिखाना ही नहीं है, बल्कि इमरजेंसी के दौरान यह यूजर को अगाह भी करता है.

इस डिस्प्ले मॉड्यूल को स्मार्टपोन से भी पेयर किया जा सकता है. यह सेंसर स्किन पर हफ्ते भर तक चल सकता है. फिलहाल यह टेस्टिंग के स्टेज में है,लेकिन रिसर्चर का मानना है कि यह हकीकत जल्द ही बनेगा. 3 साल में इसे और भरोसेमंद बनाया जाएगा और इसकी कवरेज बढ़ाई जाएगी. रिसर्चर्स का मानना है कि इससे मरीजों की देखभाल भी फायदा होगा खास कर तब जब मरीज घर पर हो. इसके लिए किसी भारी डिवाइस लगाने की जरूरत नहीं होगी.

इस इलेक्ट्रॉनिक पैच को इसके असली साइज से 45 फीसदी तक स्ट्रेच किया जा सकता है. खास बात ये है कि यह वॉटर रेजिस्टेंट बनाया गया है और कंपनी को उम्मीद है 3 साल में इसे और भी बेहतर करके इसका प्रोडक्शन शुरू कर दिया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें