scorecardresearch
 

पेंटागन ने हैकर्स को दिया डिफेंस डिपार्टमेंट हैक करने का न्योता

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय के मुख्यालय पेंटागन ने बग बाउंटी की तरह 'हैक द पेंटागन' प्रोग्राम शुरू किया है. इसमें अमेरिकी साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स हिस्सा ले सकेंगे.

'हैक द पेंटागन' प्रोग्राम के तहत होगी साइबर सिक्योरिटी की टेस्टिंग 'हैक द पेंटागन' प्रोग्राम के तहत होगी साइबर सिक्योरिटी की टेस्टिंग

पेंटागन ने बुधवार को अमेरिकी डिफेंस डिपार्टमेंट से जुड़ी वेबसाइट की साइबर सिक्योरिटी को परखने के लिए हैकर्स को इसे हैक करने का न्योता दिया है. अगले महीने से इसे पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया जाएगा.

अमेरिकी कंपनियां खामियां ढूंढने के लिए 'Bug Bounty' प्रोग्राम लॉन्च करती हैं जिसके तहत बग ढूढने वाले साइबर एक्सपर्ट्स को इनाम दिए जाते हैं. पेंटागन ने भी इसी के तर्ज पर इसे 'Hack the pentagon' का नाम दिया गया है.

अमेरिकी डिफेंस सेक्रेटरी ऐश कार्टर ने इस पायलट प्रोजेक्ट का ऐलान करते हुए कहा, 'हमें पूरा विश्वास है कि यह इनोवेटिव कदम हमारे डिजिटल डिफेंस को मजबूत करेगा. साथ ही इसे हमारे नेशनल सिक्योरिटी में भी बढ़ोतरी होगी.'

रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक सिनियर डिफेंस ऑफिशियल ने उम्मीद जताई है कि इस प्रोजेक्ट में हजारों साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स हिस्सा लेंगे. इसके लिए नियम और डिटेल्स बनाए जा रहे हैं और इसमें इनाम के तौर पर पैसे दिए जा सकते हैं.

बता दें कि पेंटागन Red Teams के तहत अपने नेटवर्क की इंटरनल टेस्टिंग करता रहा है, पर इस नए प्रोग्राम के तहत डिपार्टमेंट के बड़े कंप्यूटर नेटवर्क सिस्ट की सिक्योरिटी टेस्टिंग की जा सकती है.

'हैक द पेंटागन' प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले अमेरिकी नागरिक ही होंगे. इसके लिए उन्हें बैकग्राउंड चेक के बाद इसके लिए रजिस्टर करना होगा. इस प्रोग्राम को पेंटागन का डिफेंस डिजिटल सर्विस हैंडल करेगा जिसे पिछले नवंबर में बनाया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें