scorecardresearch
 

ईमानदार बिजनेस से कंटेंट क्यों चोरी करता है Google, सुंदर पिचाई से अमेरिकी सांसदों ने पूछे सवाल

Antitrust Hearing: Alphabet/Google CEO सुंदर पिचाई से अमेरिकी सांसदों ने कई तीखे सवाल पूछे और कंपनी पर गंभीर आरोप लगाए. जानिए सुंदर पिचाई ने क्या कहा.

Antitrust Hearing के दौरान गूगल सीईओ सुंदर पिचाई (स्क्रीनग्रैब) Antitrust Hearing के दौरान गूगल सीईओ सुंदर पिचाई (स्क्रीनग्रैब)

अमेरिका की चार बड़ी टेक कंपनियों के सीईओ को एंटी ट्रस्ट हियरिंग के दौरान तीखे सवालों का सामना करना पड़ा. दरअसल इन कंपनियों पर आरोप लग रहे हैं कि ये दूसरी छोटी कंपनियों को आगे बढ़ने का मौक़ा नहीं दे रही हैं और अपनी मोनॉपली क़ायम करना चाहती हैं.

बुधवार को टेक अमेरिका की चार बड़ी टेक कंपनियों के सीईओ से अमेरिकी सांसदों ने पांच घंटे तक पूछताछ की. इस दौरान गूगल, फ़ेसबुक, ऐमेजॉन और ऐपल जैसी कंपनियों पर बड़े आरोप भी लगाए गए.

सवाल - अमेरिकी हितों को दरकिनार कर रहा है गूगल, चीन में कर रहा है व्यापार..

ऐल्फाबेट-गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई से भी इस सुनवाई में अमेरिकी सांसदों से कई सवाल पूछे. सुंदर पिचाई से ये भी सवाल किया गया कि वो चीन में बिज़नेस क्यों कर रहे हैं.

चीन में बिज़नेस करने के सवाल पर सुंदर पिचाई ने जवाब दिया कि गूगल चीन में बिज़नेस न के बराबर करता है. जीमेल की सर्विस भी चीन में नहीं है. हालांकि उन्होंने कहा कि AR को लेकर वहां गूगल का एक प्रोजेक्ट है.

गूगल पर आरोप लगाया गया कि अमेरिका के हितों का दरकिनार कर कंपनी चीन में क्यों व्यापार कर रही है. गूगल पर ये भी आरोप लगा कि कंपनी छोटी कंपनियों को आगे बढ़ने दे रही है और अपने राइवल्स को ख़त्म करती जा रही है.

सवाल - ईमानदार बिजनेस के कंटेंट चोरी क्यों कर रहा है गूगल?

दूसरी कंपनियों की तरह यहां गूगल से भी पूछा गया कि क्या कंपनी अपनी मोनॉपली यानी एकाधिकारवाद क़ायम करना चाहती है.

सुंदर पिचाई से एक अमेरिकी सांसद ने सवाल किया की, क्यों गूगल दूसरे ईमानदार बिज़नेस के कंटेंट चोरी करता है. पिचाई ने कहा है कि वो इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते और ये कंपनी का ग़लत कैरेक्टराइजेशन होगा.

सवाल - अपने प्रॉफिट के हिसाब से सर्च रिजल्ट्स क्यों दिखाता है गूगल?

सांसद ने आगे पूछा कि ज़्यादातर अमेरिकी ये मानते हैं कि गूगल सर्च क्वेरी रेलेवेंट रिज़ल्ट दिखाता है, लेकिन गूगल अपने प्रॉफिट के हिसाब से सर्च रिज़ल्ट दिखाता है.

इतना ही नहीं, गूगल पर ये भी आरोप लगाया गया कि कंपनी अपने कम्पटीशन की पहचान करनेके लिए अपना वेब ट्रैफ़िक यूज करती है और उन्हें दबाती है.

इस सवाल के जवाब में गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा है कि दूसरे बिज़नेस की तरह हम भी डेटा से ट्रेंड समझने की कोशिश करते हैं. डेटा को हम अपने प्रोडक्ट्स को बेहतर करने के लिए यूज करते हैं.

सवाल - क्या कंपनी अमेरिकी वोटर्स से वादा करती है कि इस बार इलेक्शन में जो बाइडेन का फेवर नहीं करेगी?

एक सांसद ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई से पूछा कि क्या वो इस बार प्रेसिडेंशियल कैंडिडेट जो बाइडेन के फ़ेवर में अपना सर्च रिज़ल्ट को मैनेज करेंगे. इसका जवाब उन्होंने हां या नहीं में मांगा. हालांकि पिचाई ने कहा है कि ऐसा पहले भी नहीं हुआ और आगे भी नहीं होगा.

इस दौरान सांसद ने सुंदर पिचाई से कहा है कि वो अमेरिकी वोटर्स से ये वादा करें कि गूगल 2020 इलेक्शन के दौरान सर्च रिज़ल्ट्स में जो बाइडेन को फ़ेवर नहीं करेंगे.

इस सवाल के जवाब में पिचाई ने कहा कि पॉलिटिकली चीजों को किसी तरफ़ झुकाव के लिए हम कुछ नहीं करते और किसी का पक्ष नहीं लेते. उन्होंने ये भी कहा कि पोलिटिकल ऐड्स और कैंपेन स्ट्रैटिजीज फ़्री स्पीच के लिए ज़रूरी हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें