scorecardresearch
 

Zomato से फूड ऑर्डर किया है तो सावधान, 1.7 करोड़ यूजर्स की डीटेल हुई चोरी

फूड डिलिवरी सर्विस जोमैटो के डेटाबेस से करोड़ों यूजर की ईमेल आईडी और पासवर्ड हैश चोरी हो गए हैं. इन्हें डार्क वेब पर मोटी कीमतों में बेचा भी जा रहा है.

X
Representational Image Representational Image

भारतीय ऑनलाइन फूड डिलिवर करने वाली कंपनी Zomato में बड़ा साइबर अटैक हुआ है. पहले से ही एक्सपर्ट्स का मानना था कि रैंसमवेयर साइबर अटैक का खतरा अभी टला नहीं है. सिक्योरिटी ब्लॉग के मुताबिक लगभग 17 मिलियन यूजर्स के अकाउंट्स डार्क वेब पर बेचे जा रहे हैं.

हैकरीड के मुताबिक Zomato के डेटाबेस में यूजर्स के ईमेल पासवर्ड हैशेस शामिल हैं. जिन्हें डार्क वेब में पैकेज के तौर पर लगभग 1000 डॉलर यानी (64412 रुपये) में बेच जा रहा है. जो वेंडर्स इन डेटा को बेच रहे हैं वो इसका सैंपल भी दे रहे हैं कि यह डेटा सही है और इन्हें यूज किया जा सकता है. कंपनी का कहन है कि चोरी किए गए पासवर्ड हैश के तौर पर हैं, इसलिए इन्हें हैकर्स प्लेन टेक्स्ट में कनवर्ट नहीं कर सकते हैं. 

सिक्योरिटी ब्लॉग हैकरीड के मुताबिक यहां बेची जा रही है जोमैटो से लीक हुई डीटेल्स.

Zomato के मुताबिक डेटाबेस से लगभग 17 मिलियन कस्टमर्स के डेटा चोरी किए जा चुके हैं. इनमें ईमेल और पासवर्ड हैश शामिल हैं. Zomato ने अपने आधिकारिक ब्लॉग पोस्ट में बताया है कि डेटा यूजर्स डेटा चोरी किए गए हैं. हालांकि कंपनी ने सभी प्रभावित यूजर्स के पासवर्ड रीसेट कर दिए हैं और Zomato का कहना है कि क्रेडिट कार्ड की जानकारियां पूरी तरह सिक्योर हैं.

Zomato ने कहा है अगले कुछ दिनों और कुछ हफ्ते में कंपनी सिक्योरिटी में बढ़ोतरी करेगी और कस्टमर्स को हरसंभव मदद मुहैय्या कराएगी. कंपनी इसे ह्यूमन एरर कह कर भले ही टाल दे, लेकिन यह मामला गंभीर है और इसके साथ यूजर्स कि सिक्योरिटी जुड़ी हैं. क्योंकि इससे न सिर्फ यूजर्स के जोमैटो अकाउंट प्रभावित होंगे बल्कि इससे दूसरी आईडी भी हैक हो सकती हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें