scorecardresearch
 

अगर आप भी ज्यादा सेल्फी लेते हैं तो सावधान! ये एक बीमारी है

आजकल सेल्फी का जबरदस्त ट्रेंड है. सारे स्मार्टफोन्स भी इसी कोशिश के साथ बनाए जाते हैं कि यूजर्स की सेल्फी बेहतरीन आ सके. लेकिन अगर आपको ज्यादा सेल्फी लेने की आदत है तो ये रिसर्च आपके होश उड़ा सकती है. रिसर्च में ज्यादा सेल्फी लेने की आदत को मानसिक विकार बताया गया है.

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

आजकल सेल्फी का जबरदस्त ट्रेंड है. सारे स्मार्टफोन्स भी इसी कोशिश के साथ बनाए जाते हैं कि यूजर्स की सेल्फी बेहतरीन आ सके. लेकिन अगर आपको ज्यादा सेल्फी लेने की आदत है तो ये रिसर्च आपके होश उड़ा सकती है. रिसर्च में ज्यादा सेल्फी लेने की आदत को मानसिक विकार बताया गया है.

साइकोलॉजिस्ट का कहना है कि, 'selfitis' एक ऐसी मानसिक स्थिति है जहां लोगों को बार-बार सेल्फी लेने का मन होता है और इसे सोशल मीडिया में पोस्ट करने की भी इच्छा होती है. द सन की रिपोर्ट में ये जानकारी सामने आई है. selfitis शब्द 2014 से  खोजा गया है, लेकिन अभी भी ये विज्ञान की दुनिया से दूर है.

नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी और थियागरराजर स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के रिसर्चर्स ने इस टर्म की जांच की और छह मोटिवेटिंग फैक्टर्स भी ढूंढ निकाले. एक्सपर्ट्स ने किसी इंसान की स्थिति जानने के लिए selfitis Behaviour Scale को  भी डेवेलप किया.

रिसर्चर्स ने इस डिस्ऑर्डर के बारे में जांच तब शुरू की जब ऐसी ही टेक्नोलॉजी संबंधी बीमारी नोमोफोबिया पर स्टडी की जा चुकी थी. ये ऐसी स्थिति जहां इंसान को मोबाइल फोन हाथ में ना होने का फोबिया होने लगता है.

Selfitis की स्टडी के दौरान भारत से 200 पार्टिसिपेंट्स को लिया गया. क्योंकि फेसबुक में भारत के काफी यूजर्स हैं और खतरनाक जगहों में सेल्फी लेने के दौरान मौत भी यहां सबसे ज्यादा हुई है. इन पार्टिसिपेंट्स को selfitis Behaviour Scale पर जांचा गया.  

नॉटिंघम ट्रेंट यूनिवर्सिटी में बिहेवियर एडिक्शन के प्रोफेसर डॉ. मार्क ग्रिफिथ्स ने कहा कि, कुछ साल पहले मीडिया में ऐसी खबरें आई जिसमें दावा किया गया कि selfitis की कंडीशन को अमेरिकन साइकैट्रिक असोसिएशन ने मेंटल डिस्ऑर्डर माना है.

हालांकि बाद में ये रिपोर्ट फेक निकली. लेकिन इसका मतलब ये नहीं था कि selfitis की कंडीशन मौजूद नहीं थी. रिसर्चर्स ने अब इस कंडीशन के होने की पुष्टि की है.  रिसर्चर्स का कहना है कि अब चूंकि इस कंडीशन के अस्तित्व में होने की पुष्टि की जा चुकी है तो आगे इसमें रिसर्च की जाएगी. साथ ही कई और जानकारियां भी सामने आएंगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें