scorecardresearch
 

IND vs AUS: चैपल बोले- बाउंसर पर रोक क्यों..? इससे बचने की तरकीब बताओ

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने क्रिकेट में मैदान सुरक्षा उपायों की समीक्षा का समर्थन करते हुए कहा कि ऐसा कोई भी कड़ा नियम बनाना अच्छा विचार होगा, जिससे शॉर्ट पिच गेंदों का सामना करने वाले पुछल्ले बल्लेबाजों का बचाव हो सके.

Will Pucovski (Getty) Will Pucovski (Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • क्रिकेट में मैदानी सुरक्षा की विश्वव्यापी समीक्षा की जरूरत: चैपल
  • बाउंसर पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने के विचार को खारिज किया
  • IND vs AUS टेस्ट सीरीज से पहले सिर में चोट लगने की घटनाएं हुईं

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने क्रिकेट में मैदान सुरक्षा उपायों की समीक्षा का समर्थन करते हुए कहा कि ऐसा कोई भी कड़ा नियम बनाना अच्छा विचार होगा, जिससे शॉर्ट पिच गेंदों का सामना करने वाले पुछल्ले बल्लेबाजों का बचाव हो सके.

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज से पहले सिर में चोट लगने और कन्कशन (सिर में हल्की चोट) के लिए स्थानापन्न खिलाड़ी लेने की घटनाएं हुईं, जिससे तेज गेंदबाजों द्वारा बाउंसर के उपयोग को लेकर चर्चा फिर से शुरू हो गई. चैपल ने हालांकि इस गेंद पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाने के विचार को सिरे से नकार दिया.

चैपल ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो में अपने कॉलम में लिखा, ‘बाउंसर पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने के किसी भी विचार को उसी तरह से तुरंत खारिज कर देना चाहिए जैसे गेंदबाज न्यूजीलैंड के पुछल्ले बल्लेबाज क्रिस मार्टिन को आते ही पवेलियन भेज देते थे.’

अपने जमाने के इस दिग्गज बल्लेबाज ने कहा, ‘अब बल्लेबाज, गेंदबाज और अंपायरों सहित मैदानी सुरक्षा की विश्वव्यापी समीक्षा करना का समय आ गया है, जिसमें बल्लेबाजी तकनीक प्राथमिकता हो.’

Mohammed Shami (Getty)

ये भी पढ़ें- ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया को झटका, शमी के हाथ में फ्रैक्चर

देखें: आजतक LIVE TV 

उन्होंने कहा, ‘इस तरह की समीक्षा करते हुए पुछल्ले बल्लेबाजों को शॉर्ट पिच गेंदबाजी से बचाने के लिए किसी भी तरह का कड़ा नियम बनाना उचित होगा.’ खेल के कुशल विशेषज्ञों में से एक चैपल ने खिलाड़ियों विशेषकर निचले क्रम के बल्लेबाजों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया है. 

उन्होंने कहा कि बाहर होने वाले खिलाड़ी के समान योग्यता रखने वाले खिलाड़ी को मैदान में उतारने को लेकर शिकायत करना व्यर्थ लगता है. चैपल ने यह बात टी20 सीरीज  के दौरान कनकशन के शिकार हुए रवींद्र जडेजा की जगह युजवेंद्र चहल को उतारने के संदर्भ में कही.

चैपल ने कहा, ‘यह बहस तब बढ़ी, जब चहल ने तीन विकेट लिये और भारत की करीबी मैच में मैन ऑफ द मैच बने. समान योग्यता रखने वाले खिलाड़ी को उतारने को लेकर शिकायत करना व्यर्थ लगता है. सभी पक्षों को खुश करना हमेशा मुश्किल होगा.’
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें