scorecardresearch
 

ये हैं बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी 2015 में टीम इंडिया के 'डकटेल्स'

ऑस्ट्रेलिया में जारी बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी में टीम इंडिया के कुछ दिग्गज तो कुछ पुछल्ले बल्लेबाज डक यानी बिना खाता खोले ही पवेलियन लौटे.

X
सिडनी टेस्ट में रैना 0 पर आउट हुए सिडनी टेस्ट में रैना 0 पर आउट हुए

ऑस्ट्रेलिया में जारी बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी में टीम इंडिया के कुछ दिग्गज तो कुछ पुछल्ले बल्लेबाज डक यानी बिना खाता खोले ही पवेलियन लौटे. सिडनी टेस्ट में सलामी बल्लेबाज मुरली विजय बुधवार को भारतीय पारी के पहले ही ओवर में बिना खाता खोले तो वहीं गुरुवार को सुरेश रैना पहली ही गेंद पर निपट लिए. अब तक इस सीरीज में भारत की ओर से नौ 'डकटेल्स' बन चुके हैं.

मजेदार बात ये है कि पहले तीन में से दो टेस्ट मैचों में प्रत्येक में दो बल्लेबाज बिना खाता खोले आउट हुए जबकि आखिरी टेस्ट की पहली ही पारी में दो बल्लेबाज डक पर आउट हो चुके हैं.

पहला टेस्टः एडिलेड में खेले गए पहले टेस्ट की पहली पारी में ईशांत शर्मा डक पर आउट हुए तो दूसरी पारी में अजिंक्य रहाणे बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए. ईशांत से खैर बल्लेबाजी में ज्यादा उम्मीद करना बेकार है लेकिन रहाणे का शून्य पर लौटना टीम इंडिया की हार का एक कारण बना था. ईशांत अपने टेस्ट करियर में 20 बार डकटेल्स बन चुके हैं जबकि दूसरा मौका था जब रहाणे शून्य पर आउट हुए. हालांकि रहाणे जिस गेंद पर आउट दिए गए वो उनके बल्ले से नहीं बल्कि पैड से लगकर गई थी. लेकिन अंपायर ने उन्हें आउट दे दिया था.

दूसरा टेस्टः ब्रिस्बेन टेस्ट की पहली पारी में तो कोई भी बल्लेबाज डक पर आउट नहीं हुआ लेकिन दूसरी पारी में कैप्टन कूल एम एस धोनी और रोहित शर्मा बिना खाता खोले आउट हुए. रोहित शर्मा 2 गेंद खेलकर और धोनी 4 गेंद खेलकर आउट हुए. रोहित 10 टेस्ट मैच में तीन बार जबकि धोनी 90 टेस्ट मैच में 10वीं बार डक पर आउट हुए थे. धोनी के टेस्ट करियर का यह आखिरी डक था क्योंकि इसके एक मैच बाद उन्होंने टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कह दिया.

तीसरा टेस्टः तीसरा टेस्ट और डक पर आउट होने वाले बल्लेबाज भी तीन हो गए. पहली पारी में आर अश्विन और उमेश यादव जीरो पर निपट गए तो दूसरी पारी में शिखर धवन डक पर आउट हुए. उमेश 12 टेस्ट मैच में तीन बार शून्य पर आउट हुए हैं तो आर अश्विन दूसरी बार. शिखर धवन ने 13 टेस्ट मैचों में 2 सेंचुरी जड़ी हैं, 2 पचासा जड़े हैं और दो बार शून्य पर भी निपटे हैं.

चौथा टेस्ट जो जारी हैः इस मैच में मुरली विजय दूसरे दिन बुधवार को बिना खाता खोले आउट हुए तो तीसरे दिन सुरेश रैना डक पर आउट हुए. मुरली 31 टेस्ट मैचों में तीसरी बार शून्य पर आउट हुए तो वहीं 18 टेस्ट मैचों में रैना का यह 7वां डक था. रैना वनडे में जितने कामयाब बल्लेबाज हैं टेस्ट में उतना ही संघर्ष करते नजर आते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें