scorecardresearch
 

नाइजेल लॉन्ग ने डीआरएस के फैसले को गलत समझाः आईसीसी

क्रिकेट की गवर्निंग बॉडी आईसीसी ने साफ कर दिया है कि डे नाइट टेस्ट के दौरान डीआरएस का एक फैसला अंपायर नाइजेल लॉन्ग की वजह से ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में चला गया.

डीआरएस पर तीसरे अंपायर नाइजेल लॉन्ग ने दिया गलत फैसला डीआरएस पर तीसरे अंपायर नाइजेल लॉन्ग ने दिया गलत फैसला

क्रिकेट की गवर्निंग बॉडी आईसीसी ने साफ कर दिया है कि डे नाइट टेस्ट के दौरान डीआरएस का एक फैसला अंपायर नाइजेल लॉन्ग की वजह से ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में चला गया. आईसीसी मीडिया के ट्विटर हैंडल पर इस बाबत तीन ट्वीट किए गए हैं. इसमें यह बताया गया है कि आईसीसी ने तीसरे टेस्ट के दौरान डीआरएस पर अंपायर नाइजेल लॉन्ग के निर्णय पर न्यूजीलैंड क्रिकेट के पूछे गए सवाल का जवाब भेजा है.

इसमें लिखा गया, ‘आईसीसी ने इसकी समीक्षा की और पाया कि दिया गया फैसला गलत था.’

तीसरे ट्वीट में लिखा गया, ‘आईसीसी ने पुष्टि की है कि अंपायर ने सही प्रोटोकॉल अपनाया, लेकिन गलत फैसला दिया.’

क्या है पूरा माजरा
ऐतिहासिक डे नाइट टेस्ट मैच के दूसरे दिन न्यूजीलैंड की पहली पारी के 202 रनों का पीछा कर रही ऑस्ट्रेलियाई टीम के 118 पर 8 विकेट गिर चुके थे. लियोन क्रीज पर थे और उन्होंने अभी खाता भी नहीं खोला था. न्यूजीलैंड के लिए पहला टेस्ट खेल रहे मिचेल सेंटनर गेंदबाजी कर रहे थे. उनकी गेंद को स्वीप करने के प्रयास में बॉल लियोन के बैट के पिछले हिस्से से लगकर उनके कंधे पर लगी और फिर स्लिप की ओर गई जिसे वहां लपक लिया गया. न्यूजीलैंड की अपील को फील्ड अंपायर द्वारा ठुकराए जाने के बाद मैकुलम ने रेफरल का उपयोग किया. फैसला अब पवेलियन में बैठे तीसरे अंपायर नाइलेज लॉन्ग को करना था.

हॉट स्पॉट तकनीक ने बैट के पीछे सफेद मार्क दिखाया. इसे देखकर मैदान में लियोन पवेलियन की ओर लौटने लगे. उधर अंपायर लॉन्ग ने स्नीकोमीटर का उपयोग किया जिसमें कुछ स्पष्ट नहीं हुआ. लियोन फिर क्रीज पर लौट आए. इसके बाद उन्होंने 9वें विकेट के लिए के साथ 72 रनों की और साझेदारी की और अंततः 34 रन बनाकर आउट हुए. उनकी इसी बल्लेबाजी की बदौलत एक समय जूझ रही ऑस्ट्रेलियाई टीम पहली पारी में लीड लेने में कामयाब रही.

अंपायर के इस फैसले को लेकर एडिलेड में दर्शकों ने खूब हूटिंग की. ट्विटर पर भी अंपायर के इस फैसले का खूब माखौल उड़ा. मैच के बाद न्यूजीलैंड के कोच माइक हेसन ने मैच रेफरी रोशन महानामा से इस फैसले के संबंध में स्पष्टीकरण मांगी. जिस पर अब आईसीसी का फैसला आया है. हालांकि अब मैच का नतीजा बदला नहीं जा सकता जो ऑस्ट्रेलिया के पक्ष में जा चुका है. लेकिन डे नाइट टेस्ट और पहले पिंक बॉल क्रिकेट मैच के साथ ही यह मैच अपने इस विवादास्पद निर्णय के लिए भी याद किया जाता रहेगा.

ये भी पढ़ें:
ऐतिहासिक डे नाइट टेस्ट ऑस्ट्रेलिया ने जीता
डे नाइट टेस्ट, क्रिकेट में नए युग का प्रारंभ
डे नाइट टेस्ट में पिंक बॉल क्या गुल खिलाएगी?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें