scorecardresearch
 

मेरीकॉम का 'पंच'- अभिनव बिंद्रा चुप ही रहें, मुक्केबाजी में दखल देना ठीक नहीं

भारतीय स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मेरीकॉम ने शनिवार को ओलंपिक चैम्पियन निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के निकहत जरीन की मांग का समर्थन करने को लेकर निराशा व्यक्त की.

मेरीकॉम (Twitter) मेरीकॉम (Twitter)

  • बिंद्रा ने किया था जरीन का मेरीकॉम के खिलाफ ट्रायल का समर्थन
  • मेरीकॉम ने दिया जवाब- बिंद्रा... मुक्केबाजी के नियम नहीं जानते

भारतीय स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मेरीकॉम ने शनिवार को ओलंपिक चैम्पियन निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के निकहत जरीन की मांग का समर्थन करने को लेकर निराशा व्यक्त की. मेरीकॉम ने कहा कि उन्हें मुक्केबाजी में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. गुरुवार को बिंद्रा ने जरीन की छह बार की विश्व चैम्पियन मुक्केबाज के खिलाफ ट्रायल कराने की मांग का समर्थन किया था, लेकिन ओलंपिक कांस्य पदकधारी मेरीकॉम को यह बात पसंद नहीं आई.

मेरीकॉम ने कहा, ‘बिंद्रा ओलंपिक स्वर्ण पदक जीत चुके हैं, लेकिन मैंने भी विश्व चैम्पियनशिप में कई स्वर्ण पदक जीते हैं. मुक्केबाजी में हस्तक्षेप या दखल देना, उनका इससे कोई लेना देना नहीं है. मैं निशानेबाजी के बारे में बात नहीं करती इसलिए उनके लिए बेहतर यही होगा कि वह मुक्केबाजी पर चुप रहें. वह मुक्केबाजी के नियम नहीं जानते.’

साथ ही उन्होंने कहा, ‘वह मुक्केबाजी के बारे में कुछ नहीं जानते'. इसलिए बेहतर होगा कि चुप रहें. मुझे नहीं लगता कि अभिनव भी हर निशानेबाजी टूर्नामेंट से पहले ट्रायल्स के लिए जाते होंगे.’

बिंद्रा और जरीन दोनों अलग-अलग क्षमताओं में जेएसडब्ल्यू से जुड़े हुए हैं. बिंद्रा ने ट्वीट किया था,‘मेरीकॉम का मैं पूरा सम्मान करता हूं, लेकिन खिलाड़ी को अपने करियर में बार-बार सबूत देने पड़ते हैं. यह सबूत कि हम आज भी कल की तरह खेल सकते हैं. कल से बेहतर और आने वाले कल से बेहतर. खेल में बीता हुआ कल मायने नहीं रखता.’

दरअसल, निकहत ने अगले साल ओलंपिक क्वालिफायर के लिए भारतीय टीम का चयन करने से पहले उनके और मेरीकॉम के बीच ट्रायल मैच की मांग की है. इस संदर्भ में इस युवा बॉक्सर ने खेल मंत्री किरण रिजिजू को पत्र लिखा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें