scorecardresearch
 

लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों का सम्मान नहीं कर रहा BCCI: वर्मा

क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार (सीएबी) के सचिव आदित्य वर्मा ने कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके बीसीसीआई के राज्य के विरोधी संघ बीसीए के प्रति विरोधाभासी रुख पर सवाल उठाए हैं.

X
क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार के सचिव आदित्य वर्मा
क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार के सचिव आदित्य वर्मा

क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार (सीएबी) के सचिव आदित्य वर्मा ने कहा कि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करके बीसीसीआई के राज्य के विरोधी संघ बीसीए के प्रति विरोधाभासी रुख पर सवाल उठाए हैं.

इस याचिका पर सुनवाई चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर और जस्टिस फकरी मोहम्मद इब्राहीम खलीफा की पीठ सुनवाई करेगी. कोर्ट की यही पीठ बीसीसीआई के उस जवाब पर भी सुनवाई करेगी जिसमें उससे पूछा गया था कि बोर्ड जस्टिस लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू करने के खिलाफ क्यों हैं.

बीसीसीआई ने बिहार क्रिकेट एसोसिएशन (बीसीए) के प्रतिनिधि मृत्युंजय तिवारी को 19 फरवरी को अपनी विशेष आम सभा (एजीएम) में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया था जिसके बाद वर्मा ने यह याचिका दायर की. वर्मा ने बयान में कहा, ‘बीसीसीआई ने एक गुट (बीसीए) को गैरकानूनी तौर पर आमंत्रित किया और उन्हें एसजीएम में बैठने की अनुमति दी. बीसीसीआई का रुख सुप्रीम कोर्ट से नियुक्त जस्टिस लोढ़ा पैनल के उल्लंघन के दायरे में आता है.’

उन्होंने कहा, ‘बीसीसीआई इतना दंभी हो गया है कि वह यहां तक कि देश के सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं कर रहा है.’ वर्मा ने एक सवाल के जवाब में मीडिया की इन रिपोर्टों को खारिज कर दिया कि उन्हें बोर्ड

के खिलाफ अदालती कार्रवाई जारी रखने के लिए ललित मोदी से वित्तीय सहायता मिलती है. उन्होंने कहा, ‘उन्होंने (मोदी) ने मुझे पैसे देने की पेशकश होती तो मुझे उसे स्वीकार करने में खुशी होती.’

इनपुटः भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें