scorecardresearch
 

सुशील कुमार के मुताबिक क्वालीफाई कोई करे, ओलंपिक पदक जीतना ज्यादा महत्वपूर्ण

ओलंपिक खेलों में भारत के लिए व्यक्तिगत स्पर्धा का दो पदक जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी सुशील कुमार का कहना है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह रियो ओलंपिक-2016 के लिए क्वालीफाई करते हैं या युवा नरसिंह पंचम यादव, बल्कि जरूरी यह है कि उनमें से जो भी जाए वह पदक जीते.

सुशील कुमार (फाइल फोटो) सुशील कुमार (फाइल फोटो)

ओलंपिक खेलों में भारत के लिए व्यक्तिगत स्पर्धा का दो पदक जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी सुशील कुमार का कहना है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह रियो ओलंपिक-2016 के लिए क्वालीफाई करते हैं या युवा नरसिंह पंचम यादव, बल्कि जरूरी यह है कि उनमें से जो भी जाए वह पदक जीते.

सुशील की जगह नरसिंह हैं पहली पसंद
लंदन ओलम्पिक-2012 के बाद से ही लगातार चोटों के कारण लंबे समय से रिंग से बाहर चल रहे सुशील की जगह नरसिंह 74 किलोग्राम भारवर्ग में भारत के सर्वोच्च विकल्प बनकर उभरे हैं. विश्व चैम्पियनशिप के लिए होने वाले ट्रायल में दोनों खिलाड़ियों के बीच मुकाबले का सभी को बेसब्री से इंतजार था, लेकिन कंधे में चोट के कारण सुशील ट्रायल में हिस्सा नहीं ले सके. परिणामत: नरसिंह को लास वेगास में सात से 15 सितंबर के बीच होने वाली वर्ल्ड चैंपियनशिप में प्रवेश मिल गया.

व्यक्तिगत हित से ऊपर देशहित
सुशील ने कहा, 'हमारे बीच पिछले वर्ष ही ट्रायल मुकाबला होने वाला था, लेकिन हो नहीं सका. मेरे लिए यह ट्रायल काफी मुश्किल होने वाला है, क्योंकि मैं जब पूरी तरह स्वस्थ हो जाऊंगा तभी ट्रायल दूंगा. मैं जिस तरह खेलता हूं उससे सभी वाकिफ हैं और एक ही भारवर्ग में होने के बावजूद हम साथ-साथ प्रशिक्षण लेते हैं. नरसिंह अगर मेरी जगह ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई कर लेता है तो अच्छा होगा. क्योंकि यहां से देश हित व्यक्तिगत हित के ऊपर हो जाता है. जो अच्छा करेगा वह ओलंपिक में प्रवेश करेगा और देश के लिए पदक जीतने का हक हासिल करेगा. अगर मैं कहूं कि, नहीं सिर्फ मैं ही खेलूंगा और मैं अभी पूरी तरह फिट भी नहीं हूं, तो इसमें कोई तर्क नहीं है.'

वर्ल्ड चैंपियनशिप में इकलौते गोल्ड विनर इंडियन हैं सुशील
वर्ल्ड चैंपियनशिप में देश के लिए गोल्ड जीतने वाले एकमात्र पहलवान सुशील ने कहा कि उनके कंधे की चोट ठीक हो चली है और वह जल्द ही अमेरिका में दो से तीन महीने के प्रशिक्षण के लिए रवाना होंगे. बिग एफएम रेडियो चैनल के सहयोग से हाल ही में चोटिल खिलाड़ियों की मदद के लिए अपना फाउंडेशन 'सुशील4स्पोर्ट्स' शुरू करने वाले सुशील ने कहा, "मेरा कंधा अब काफी ठीक है और जल्द ही मैं प्रशिक्षण शुरू कर दूंगा. संभव हो सका तो मैं अमेरिका में यह प्रशिक्षण लूंगा. मैं विश्व चैम्पियनशिप देखने भी जा सकता हूं." विश्व चैम्पियनशिप में सुशील हिस्सा तो नहीं ले पा रहे, लेकिन अन्य प्रतिभागियों को उन्होंने शुभकामनाएं दी हैं. उन्हें पिछले विश्व चैम्पियनशिप में रजत पदक जीतने वाले अमित कुमार, नरसिह और ओलम्पिक में कांस्य पदक विजेता योगेश्वर दत्त से पदक की उम्मीद है.

-इनपुट:IANS

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें