scorecardresearch
 

इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया का ऐलान, धोनी, युवराज को वनडे टीम में जगह

इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले तीन वनडे और तीन टी-20 मुकाबलों के लिए आज भारतीय टीम का चयन किया जाएगा. चयनकर्ता जब इंग्लैंड के खिलाफ टीम के चयन के लिए बैठेंगे तो यह लगभग तय है कि विराट कोहली को इन दोनों प्रारूपों की कप्तानी भी सौंपी जाएगी.

X
एमएसके प्रसाद एमएसके प्रसाद

सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्पष्ट आदेश मिलने के बावजूद बीसीसीआई ने अपना रूख नहीं बदला है और उसने चयन समिति की बैठक के लिये लोढा समिति से लिखित मंजूरी मांगी जिसके चलते तकनीकी कारणों से बैठक में तीन घंटे विलंब हुआ. असमंजस की स्थिति तब पैदा हुई जब पूर्व संयुक्त सचिव अमिताभ चौधरी ने सीईओ राहुल जौहरी से पूछा कि उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला के लिये टीम के चयन के लिये होने वाली बैठक के बारे में सूचना क्यो नहीं दी गई. बीसीसीआई के संविधान के तहत वह ही बैठक बुला सकते हैं. लोढा समिति के सचिव गोपाल शंकरनारायण ने जौहरी को साफ शब्दों में लिखे ईमेल में कहा कि पूर्व संयुक्त सचिव अमिताभ चौधरी सुप्रीम कोर्ट के दो और तीन जनवरी के फैसले के बाद अयोग्य हैं और बैठक नहीं बुला सकते चूंकि सचिव अजय शिर्के को भी कोर्ट ने पदच्युत कर दिया.

 तीन घंटे देरी से शुरू हुई मीटिंग

ईमेल में कहा गया,‘समिति को आपका ईमेल मिला. यह स्पष्ट किया जाता है कि अमिताभ चौधरी कोर्ट के दो और तीन जनवरी के फैसले के बाद अब बीसीसीआई के संयुक्त सचिव या बीसीसीआई या राज्य संघ के पदाधिकारी नहीं है.'’ इसमें आगे कहा गया,‘वह बीसीसीआई के मामले में या कामकाज में दखल नहीं दे सकते. आप चयन समिति की बैठक बुला सकते हैं.

 12:30 शुरू होनी थी बैठक
इंग्लैंड के खिलाफ सीमित ओवरों की श्रृंखला के लिये भारतीय टीम के चयन के लिये बैठक दोपहर 12:30 पर शुरू होनी थी लेकिन अधिकारियों ने कहा कि लाजिस्टिक से जुड़े मसले हैं और पांचों चयनकर्ता नहीं पहुंचे हैं. दोपहर 1:33 पर बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी ने शंकरनारायण को भेजे ईमेल में उन्हें अमिताभ चौधरी से मिले ईमेल की जानकारी दी और बैठक को लेकर निर्देश मांगे. उन्होंने कहा,‘मुझे बीसीसीआई संयुक्त सचिव अमिताभ चौधरी का ईमेल मिला जिसमें कहा गया कि बैठक शाम तक के लिये स्थगित कर दी जाये ताकि वह इसे बुला सके और इसमें भाग ले सकें.'

अभिताभ चौधरी ने नौ साल पूरे किये
इसमें कहा गया,‘अभी तक हमें अलग अलग कानूनी सलाह मिली है कि राज्य संघ में नौ साल तक पदाधिकारी रहा व्यक्ति दो जनवरी के कोर्ट के फैसले के तहत बीसीसीआई के पदाधिकारी के तौर पर अयोग्य है या नहीं. हमें इस संदर्भ में स्पष्टीकरण मांगने के लिये कहा गया.' जौहरी ने कहा,‘ अमिताभ चौधरी राज्य संघ के पदाधिकारी के तौर पर नौ साल पूरे कर चुके हैं लेकिन बीसीसीआई पदाधिकारी के रूप में अभी नौ साल पूरे नहीं किये हैं.'

विराट कोहली को मिल सकती है कमान
महेंद्र सिंह धोनी ने सीमित ओवरों की कप्तानी छोड़ दी और ऐसे में अब टेस्ट कप्तान कोहली को इन दोनों प्रारूपों में टीम की अगुवाई करने का जिम्मा सौंपा जा सकता है. कोहली को कप्तानी का जिम्मा सौंपे जाने को लेकर किसी तरह का संदेह नहीं है लेकिन चयनकर्ताओं के लिये उचित संतुलन बनाते हुए दो टीमों का चयन करना आसान नहीं होगा क्योंकि कई खिलाड़ी अब भी चोटों से जूझ रहे हैं. मुंबई के दो बल्लेबाज रोहित शर्मा और अंजिक्य रहाणे चोटिल होने के कारण बाहर हैं. इससे खराब फार्म में चल रहे शिखर धवन को फिट होने की स्थिति में के एल राहुल के साथ पारी का आगाज करने की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है.

युवा खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका
यह भी हो सकता है कि चयनकर्ता किसी बिल्कुल नये खिलाड़ी पर भरोसा दिखायें. कर्नाटक के राहुल चोटिल होने के कारण न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में नहीं खेल पाये थे जबकि दिल्ली के बल्लेबाज शिखर धवन भी न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान चोटिल हो गये थे. बायें हाथ के बल्लेबाज धवन ने जनवरी में आखिरी बार ऑस्ट्रेलिया में वनडे मैच खेले थे. पहले दो मैचों में फ्लॉप रहने के बाद उन्होंने अगले तीन मैचों में एक शतक और दो अर्धशतक लगाये थे. इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच में तिहरा शतक जड़ने वाले करूण नायर को रहाणे के स्थान पर सीमित ओवरों की टीम में चुने जाने की संभावना है.

गेंदबाजों के चयन पर होगी माथापच्ची
दूसरे ऑफ स्पिनर जयंत यादव को चोटिल होने के कारण इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी टेस्ट मैच से बाहर रहना पड़ा था. यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या चयनकर्ता मैच फिटनेस साबित किये बिना इन दोनों गेंदबाजी आलराउंडरों का चयन करते हैं या नहीं. धोनी भले ही कप्तानी से हट गये हैं लेकिन उन्होंने एक खिलाड़ी के रूप में खुद को उपलब्ध रखा है. चयनकर्ताओं को भी इससे अवगत करा दिया गया है जो कि अन्य दावेदारों पर उन्हें ही तरजीह देंगे. न्यूजीलैंड के खिलाफ रविंद्र जडेजा को विश्राम देकर अक्षर पटेल को बायें हाथ के स्पिनर के रूप में चुना गया था. लेकिन अब टेस्ट और वनडे के बीच काफी विश्राम मिलने के बाद जडेजा को टीम में लिया जा सकता है. उस टीम में यादव के साथ अमित मिश्रा तीसरे स्पिनर थे. मनीष पांडे और केदार जाधव के अलावा मनदीप सिंह वनडे टीम में अपनी जगह बनाये रख सकते हैं. न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में नहीं खेलने वाले मोहम्मद शमी और धवल कुलकर्णी चोटिल होने के कारण बाहर हैं, तो चयनकर्ता अच्छी फार्म में चल रहे जसप्रीत बुमराह और उमेश यादव के साथ इशांत शर्मा को चुन सकते हैं. हार्दिंक पंड्या भी इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान चोटिल हो गये थे लेकिन वह यहां डीवाई पाटिल टी20 टूर्नामेंट में खेल रहे हैं और उन्हें टीम में लिया जा सकता है.

रैना को मिल सकता है मौका
यह देखना दिलचस्प होगा कि चयनकर्ता सुरेश रैना पर वनडे के लिये विश्वास दिखाते हैं या नहीं. रैना को हालांकि फिट घोषित होने पर तीन टी20 मैचों के लिये टीम में शामिल किया जा सकता है.

दो प्रैक्टिस मैच के लिए भी होगा टीम का चयन
चयनकर्ता ब्रेबोर्न स्टेडियम में दस और 12 जनवरी को होने वाले दो प्रैक्टिस मैचों के लिये भी भारत ए टीम का चयन करेंगे. बैठक के बारे में आधिकारिक जानकारी बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जोहरी ने प्रेस विज्ञप्ति में दी. वह बख्रास्त अजय शिर्के की जगह बोर्ड में फिलहाल सचिव की भूमिका निभा सकते हैं. इंग्लैंड की टीम रविवार को फिर से भारत आएगी. टेस्ट सीरीज के बाद वह क्रिसमस की छुट्टियों पर स्वदेश लौट गयी थी. वनडे श्रृंखला 15 जनवरी से पुणे में शुरू होगी जबकि बेंगलुरू में एक फरवरी को होने वाले तीसरे और अंतिम टी20 मैच से इस श्रृंखला का समापन होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें