scorecardresearch
 

भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज की बहाली चाहते हैं पाक पीएम शरीफ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की इच्छा है कि तनावों के बावजूद भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट रिश्ते बहाल हों. नवाज शरीफ के एक सहयोगी ने कहा कि प्रधानमंत्री लाखों प्रशंसकों की तरह पाकिस्तान और भारत के बीच क्रिकेट के समर्थक हैं.

X
26/11 हमलों के बाद से नहीं हुई है भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज 26/11 हमलों के बाद से नहीं हुई है भारत-पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय क्रिकेट सीरीज

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की इच्छा है कि तनावों के बावजूद भारत और पाकिस्तान के क्रिकेट रिश्ते बहाल हों. नवाज शरीफ के एक सहयोगी ने कहा कि प्रधानमंत्री लाखों प्रशंसकों की तरह पाकिस्तान और भारत के बीच क्रिकेट के समर्थक हैं. इससे पहले पकिस्तान ने अपने खिलाड़ियों की सुरक्षा का हवाला देकर भारत में द्विपक्षीय सीरीज की संभावना को खारिज कर दिया था.

द नेशन ने नवाज शरीफ के एक निकट सहयोगी के हवाले से यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि शरीफ क्रिकेट के बहुत बड़े प्रशंसक हैं. दोनों देशों के बीच लुभावनी सीरीज के खिलाफ मत देने का फैसला उनके दिमाग में नहीं आ सकता.

शरीफ के सहयोगी ने कहा, ‘पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को भारत के साथ सीरीज के लिए सरकारी अनुमति लेने के लिए कहने की वजह इसलिए पड़ी क्योंकि भारत से सकारात्मक संकेत नहीं मिल रहे हैं. शिवसेना नफरत फैला रही है और शरीफ खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं.’

उन्होंने कहा कि सीमा के दोनों तरफ मौजूद लाखों प्रशंसकों की तरह शरीफ भी भारत-पाकिस्तान क्रिकेट के बड़े पक्षधर हैं. उन्होंने कहा कि शरीफ भारत से रिश्तों में ऐसी बेहतरी चाहते हैं जिसमें क्रिकेट को खेल की तरह लिया जाए, जंग की तरह नहीं.

प्रधानमंत्री के सहयोगी ने कहा, ‘सही है कि राजनैतिक तनाव है लेकिन वह भारत है जिसने पाकिस्तान के साथ क्रिकेट संबंध निलंबित किए हैं. हम कभी ऐसा नहीं चाहते थे. उन्हें खेल को खेल की तरह लेना चाहिए. हम उम्मीद करते हैं कि हम इस मुद्दे को सुलझा पाएंगे.’

लेकिन, पाकिस्तान के गृह मंत्री चौधरी निसार खान भारत के साथ खेलने के सख्त खिलाफ हैं. खान ने कहा कि वह पाकिस्तान के भारत दौरे का विरोध करेंगे क्योंकि भारत सरकार शिवसेना के चरमपंथ को प्रश्रय दे रही है.

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की कार्यकारी समिति के अध्यक्ष नजम सेठी ने भी पाकिस्तान की टीम के भारत जाकर खेलने का विरोध किया है. उन्होंने कहा कि यह पाकिस्तान की गृह सीरीज है और भारतीय बोर्ड को उस समझौते का आदर करना चाहिए जिसमें कहा गया है कि पाकिस्तान तय करेगा कि उसकी गृह सीरीज कहां होगी.

मुंबई में 2008 के आतंकी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच कोई क्रिकेट सीरीज नहीं हुई है. भारत ने मुंबई हमले के लिए सीमा पार के आतंकियों को जिम्मेदार ठहराया था. पाकिस्तान ने हालांकि दिसंबर 2012 में सीमित ओवरों की संक्षिप्त सीरीज के लिए भारत का दौरा किया था. मामले की संवेदनशीलता की वजह से हर सीरीज के पहले सरकार से अनापत्ति प्रमाणपत्र लेने की जरूरत पड़ती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें