scorecardresearch
 

इंग्लैंड दौरे पर शर्मनाक डेब्यू के बाद एमएस धोनी ने पंकज सिंह को दिया था गुरुमंत्र

इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले भारतीय गेंदबाज पंकज सिंह ने भले ही डेब्यू मैच में शर्मनाक रिकॉर्ड बनाया हो, लेकिन उनकी प्रतिबद्धता पर कोई सवाल नहीं खड़ा कर सकता.

File photo: पंकज सिंह File photo: पंकज सिंह

इंग्लैंड दौरे पर टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले भारतीय गेंदबाज पंकज सिंह ने भले ही डेब्यू मैच में शर्मनाक रिकॉर्ड बनाया हो, लेकिन उनकी प्रतिबद्धता पर कोई सवाल नहीं खड़ा कर सकता. कैप्टन कूल एम एस धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ डेब्यू मैच के बाद राजस्थान के इस गेंदबाज को एक गुरुमंत्र दिया था.

साउथम्पटन टेस्ट में इस गेंदबाज ने 179 रन लुटा डाले थे, जबकि उनके खाते में एक भी विकेट नहीं आया था. मैच में दुर्भाग्यशाली रहने के बारे में धोनी ने पंकज से कहा था कि भाग्यशाली और दुर्भाग्यशाली जैसा कुछ नहीं होता है.

पंकज ने कहा, 'जब मेरे पदार्पण पर मुझे एक भी विकेट नहीं मिला तो लोगों ने मेरे साथ हमदर्दी जताई और मुझे दुर्भाग्यशाली पंकज का टैग मिला लेकिन एमएस (धोनी) ने मुझसे कहा कि भाग्यशाली या दुर्भाग्यशाली जैसा कुछ नहीं होता है. सिर्फ जरूरी यह होता है कि आपने कितनी ईमानदारी से प्रयास किए और मुझे इस बारे में कोई शिकायत नहीं है.'

सुल्तानपुर में जन्मे पंकज अब भी डेब्यू टेस्ट में अपने प्रदर्शन को निराशा से देखते हैं. पंकज दक्षिण क्षेत्र की दमदार बल्लेबाजी के खिलाफ तीन शुरुआती विकेट झटककर मध्य क्षेत्र के लिए उम्मीद जगाने का मुश्किल प्रयास कर रहे हैं.

पंकज ने पहले टेस्ट मैच में निराशाजनक प्रदर्शन के बारे में कहा, 'जाहिर तौर पर, थोड़ी निराशा है लेकिन मैंने अपना 100 प्रतिशत प्रदर्शन किया. आंकड़े निश्चित रूप से मेरी गेंदबाजी की सच्ची तस्वीर पेश नहीं करते.'

पंकज ने ओल्ड ट्रैफर्ड में हुए अगले टेस्ट मैच में दो विकेट लिए थे लेकिन वह पुछल्ले बल्लेबाजों को आउट करके ज्यादा खुश नहीं थे. उन्होंने कहा, 'यह वास्तव में संतोषजनक नहीं था क्योंकि मैंने पारी की अंत में विकेट लिए और यह तेज गेंदबाजों की मददगार विकेट नहीं थी. मुझे उम्मीद है कि मेरे नाम पर ऑस्ट्रेलियाई दौरे के दौरान चयन के लिए विचार होगा.'

इनपुटः भाषा से

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें