scorecardresearch
 

IPL में मुंबई इंडियंस ने रचा इतिहास, लीग में जीत का शतक लगाने वाली बनी पहली टीम

मुंबई इंडियंस IPL के इतिहास में पहली ऐसी टीम बन गई है, जिसने 100 मैच जीते हैं. चेन्नई के खिलाफ मौजूदा IPL सीजन का 15वां मैच जीतकर मुंबई ने यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की है.

Mumbai indians vs chennai super kings Mumbai indians vs chennai super kings

मुंबई इंडियंस की टीम ने बुधवार को चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ वानखेड़े स्टेडियम में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) मैच जीतकर इतिहास रच दिया है. मुंबई इंडियंस आईपीएल के इतिहास में पहली ऐसी टीम बन गई है, जिसने 100 मैच जीते हैं. चेन्नई के खिलाफ मौजूदा आईपीएल सीजन का 15वां मैच जीतकर मुंबई ने यह ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल की है.

मुंबई इंडियंस की आईपीएल में यह 100वीं जीत है. मुंबई इंडियंस ने 2008 से लेकर आईपीएल में अब तक 175 मैच खेले हैं, जिसमें से उसे 100 मैचों में जीत मिली है. हालांकि इन 100 मैचों में से एक जीत मुंबई को सुपर ओवर में मिली. इसके अलावा 75 मैचों में मुंबई इंडियंस को हार भी मिली है.

इस लिस्ट में मुंबई इंडियंस के बाद दूसरा नंबर चेन्नई सुपर किंग्स का आता है, जिसने 152 आईपीएल मैच खेले हैं और उसे 93 मैचों में जीत मिली है. इसके अलावा 58 मुकाबले चेन्नई सुपर किंग्स ने गंवाए हैं. इन 58 मैचों में से एक हार चेन्नई को सुपर ओवर में मिली है. इसके अलावा 1 मैच बेतनीजा रहा.

IPL में सबसे ज्यादा जीत

1. मुंबई इंडियंस- 175 मैच, 100 जीत (1 मैच सुपर ओवर में जीता), 75 हार

2. चेन्नई सुपर किंग्स-  152 मैच, 93 जीत, 58 हार (1 मैच सुपर ओवर में हारा), 1 बेनतीजा

3. कोलकाता नाइट राइडर्स-  167 मैच, 88 जीत, 79 हार (3 मैच सुपर ओवर में हारे)  

4. रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु-  171 मैच, 79 जीत (1 मैच सुपर ओवर में जीता), 89 हार (1 मैच सुपर ओवर में हारा), 3 बेनतीजा

5. किंग्स इलेवन पंजाब- 166 मैच, 79 जीत (2 मैच सुपर ओवर में जीते), 87 हार

6. राजस्थान रॉयल्स - 137 मैच, 71 जीत (2 मैच सुपर ओवर में जीते), 65 हार (1 मैच सुपर ओवर में हारा), 1 बेनतीजा

7. दिल्ली कैपिटल्स- 165 मैच, 69 जीत (1 मैच सुपर ओवर में जीता), 94 हार (1 मैच सुपर ओवर में हारा), 2 बेनतीजा

8. सनराइजर्स हैदराबाद- 96 मैच, 54 जीत (1 मैच सुपर ओवर में जीता), 42 हार

बता दें कि रोहित शर्मा की मुंबई इंडियंस ने एमएस धोनी की चेन्नई सुपर किंग्स का पिछले सीजन से लगातार छह मैचों से चल रहा विजय रथ भी रोक दिया है. सूर्यकुमार यादव के अर्धशतक और हार्दिक पंड्या के हरफनमौला खेल से मुंबई ने चेन्नई को 37 रन से करारी शिकस्त देकर मौजूदा चैंपियन के आईपीएल में पिछले साल से चले आ रहे छह मैचों के विजय अभियान पर ब्रेक लगा दी.

IPL में कब-कब चेन्नई सुपर किंग्स के विजयरथ पर लगा ब्रेक

लगातार 7 मैच 2013 [मुंबई इंडियंस ने 60 रनों से हराकर रोका विजय रथ]

लगातार 6 मैच 2014 [किंग्स इलेवन पंजाब ने 44 रनों से हराकर रोका विजय रथ]

लगातार 6 मैच 2018-2019 [मुंबई इंडियंस ने 34 रनों से हराकर रोका विजय रथ]

चेन्नई के सामने 171 रन का लक्ष्य

मुकाबले में चेन्नई के सामने 171 रन का लक्ष्य था, लेकिन शीर्ष क्रम लड़खड़ाने से वह आखिर तक नहीं उबर पाया और केदार जाधव (54 गेंदों पर 58 रन) के प्रयासों के बावजूद आठ विकेट पर 133 रन तक ही पहुंच पाया. हार्दिक ने 20 रन देकर तीन, लसिथ मलिंगा ने 34 रन देकर तीन और जेसन बेहरेनडोर्फ ने 22 रन देकर दो विकेट लिए.

इससे पहले मुंबई की शुरुआत अच्छी नहीं रही थी, लेकिन अंतिम पांच ओवर में 77 रन जुटाने से वह पांच विकेट पर 170 रन के चुनौतीपूर्ण स्कोर पर पहुंच गया. सूर्यकुमार (43 गेंदों पर 59 रन) और क्रुणाल पंड्या (32 गेंदों पर 42 रन) ने चौथे विकेट के लिए 62 रन जोड़कर स्थिति संभाली. हार्दिक (आठ गेंदों पर नाबाद 25) और कीरोन पोलार्ड (सात गेंदों पर नाबाद 17) ने आखिरी 12 गेंदों पर 42 रन की अटूट भागीदारी की. चेन्नई ने इस सत्र में अपने पहले तीनों मैच जीते थे और उसकी यह पहली हार है. मुंबई की चार मैचों में यह दूसरी जीत है.

चेन्नई के दोनों सलामी बल्लेबाज अंबति रायडू (0) और शेन वॉटसन (पांच) पहले दो ओवर के अंदर पवेलियन लौट गए. सुरेश रैना (15 गेंद पर 16) ने अभी अपना पुराना रंग दिखाना शुरू ही किया था कि पोलार्ड ने सीमा रेखा पर एक हाथ से बेहतरीन कैच लेकर स्कोर तीन विकेट पर 33 रन कर दिया. जेसन बेहरेनडोर्फ का यह दूसरा विकेट था.

रोहित शर्मा ने अपने मुख्य गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को पावरप्ले में गेंद नहीं सौंपी. इसके तुरंत बाद जब वह गेंदबाजी के लिए आए तो जाधव ने तीन चौकों से उनका स्वागत किया लेकिन तब भी चेन्नई दस ओवर के बाद तीन विकेट पर 66 रन तक ही पहुंच पाया.

बुमराह की शानदार वापसी

धोनी ने फिर से धीमी बल्लेबाजी की और जाधव भी अचानक धीमे पड़ गए जिससे नौवें से 13वें ओवर के बीच 30 गेंदों पर केवल 23 रन बने. इस बीच एक बार भी गेंद सीमा रेखा तक नहीं पहुंची. धोनी ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आखिरी ओवरों में अपना असली रंग दिखाकर नाबाद 75 रन बनाए थे लेकिन वह 21 गेंदों पर 12 रन ही बना पाए. हार्दिक ने उनका महत्वपूर्ण विकेट लेने के बाद नए बल्लेबाज रवींद्र जडेजा (एक) को भी आते ही पवेलियन भेजा.

जाधव ने लेसिथ मलिंगा पर लगातार दो चौके जमाए और इनमें से पहले चौके से 46 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया, लेकिन रन और गेंदों के बीच बढ़ते अंतर का दबाव उन पर भी साफ दिख रहा था. चेन्नई को आखिरी चार ओवर में 66 रन की दरकार थी.

बुमराह ने शानदार वापसी की तथा आखिरी तीन ओवरों में केवल 12 रन दिए जबकि मलिंगा ने जाधव और ड्वेन ब्रावो (आठ) को एक ओवर में आउट करके चेन्नई की रही सही उम्मीदों पर भी पानी फेर दिया. जाधव ने अपनी पारी में आठ चौके और एक छक्का लगाया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें