scorecardresearch
 

जो संसद में नहीं कह सके सचिन, वह सोशल मीडिया पर आकर कहा

सचिन ने कहा, ''मैं खेल बहुत पसंद करता हूं. क्रिकेट मेरी जिंदगी है. मेरे पिता रमेश तेंदुलकर कवि और लेखक थे. मैं जिंदगी में जो करना चाहता था, उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया और प्रोत्साहन किया. उन्होंने मुझे क्रिकेट खेलने की आजादी दी, जो उनकी तरफ से मेरे लिए सबसे बड़ा गिफ्ट था. इसका मैं हमेशा उनका शुक्रगुज़ार रहूंगा.''

X
सचिन तेंदुलकर सचिन तेंदुलकर

पूर्व क्रिकेटर और सांसद सचिन तेंदुलकर ने गुरुवार को राज्यसभा में पहली बार भाषण में हिस्सा लिया, लेकिन विपक्ष के हंगामे की वजह से कुछ बोल नहीं पाए. उनको खेलने के अधिकार विषय पर अपनी बात रखनी थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका.

इसके बाद सचिन तेंदुलकर ने अपनी बात को सभी तक पहुंचाने के लिए आधुनिक जमाने के सबसे सशक्त माध्यम सोशल मीडिया का सहारा लिया. शुक्रवार को उन्होंने एक वीडियो पोस्ट कर अपनी बात सभी के सामने रखी.

इस वीडियो में सचिन ने कहा, ''मेरे देशवासियों कल (गुरुवार) कुछ ऐसी बातें थी, जो मैं आप तक पहुंचाना चाहता था. यहां भी वही कोशिश करूंगा. मुझे कई बार हैरानी होती है कि मैं यहां तक कैसे पहुंचा? फिर मुझे एहसास होता है कि क्रिकेट में उठाए गए छोटे कदमों ने मुझे कभी न भूलने वाली यादें दी.''

उन्होंने कहा, ''मैं खेल बहुत पसंद करता हूं. क्रिकेट मेरी जिंदगी है. मेरे पिता रमेश तेंदुलकर कवि और लेखक थे. मैं जिंदगी में जो करना चाहता था, उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया और प्रोत्साहन किया. उन्होंने मुझे क्रिकेट खेलने की आजादी दी, जो उनकी तरफ से मेरे लिए सबसे बड़ा गिफ्ट था. इसका मैं हमेशा उनका शुक्रगुज़ार रहूंगा.''

सचिन ने कहा, ''गरीबी, आर्थिक वृद्धि, फूड सिक्योरिटी समेत देश में कई अहम मुद्दे हैं, जिन पर ध्यान देने की जरूरत है. एक खिलाड़ी होने के नाते मैं खेल, इंडिया की फिटनेस और लोगों की सेहत पर बात करना चाहता हूं. मेरा विजन स्वस्थ और फिट भारत है. जब युवा स्वस्थ होगा, तब देश में कुछ होगा. साल 2020 में भारत दुनिया के सबसे जवान देशों में से एक होगा. ऐसे मे धारणा ये है कि अगर युवा हैं, तो फिट हैं. लेकिन ये गलत है.''

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, ''सिर्फ डायबिटीज की बात की जाए, तो भारत को इस बीमारी की राजधानी मान सकते हैं. भारत में 7.5 करोड़ लोग डायबिटीज की बीमारी से जूझ रहे हैं. अगर मोटापे की बात करें, तो हम दुनिया में तीसरे नंबर पर हैं. इन बीमारियों का आर्थिक बोझ भारत की अर्थव्यवस्था पर पड़ता है. ऐसे में देश का आगे बढ़ना संभव ही नहीं है.''

सचिन ने कहा कि भारत स्पोर्ट्स लविंग नेशन (खेल प्रेमी राष्ट्र) हैं, लेकिन हमको इसके साथ ही स्पोर्ट्स प्लेइंग नेशन (खेलने वाला देश) बनने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी की तर्ज पर भारत को स्मार्ट स्पोर्ट्स नेशन बनाने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि खेल के हर क्षेत्र में हमारे देश के खिलाड़ियों ने नाम कमाया है. इस दौरान उन्होंने खिलाड़ियों को होने वाली दिक्कतों को भी जिक्र किया.

सचिन ने कहा कि आजकल मां-बाप अपने बच्चों से पूछते हैं कि खाना खाया या नहीं? पढ़ाई की या नहीं? पूर्व क्रिकेटर ने कहा कि वह दिन उनके लिए सबसे अहम होगा, जब मां-बाप अपने बच्चों से उसी तरह पूछेंगे कि आज खेल खेला या नहीं? इस बीच सचिन ने बेटा और बेटियों में भेद खत्म करने की भी अपील की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें