scorecardresearch
 

संगीनों के साए में होगा भारत-पाकिस्तान वर्ल्ड टी20 का महामुकाबला!

भारत और पाकिस्तान के बीच धर्मशाला में होने वाले वर्ल्ड टी20 के मैच को बनी अनिश्चितता के बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि 19 मार्च को होने वाले मैच की सुरक्षा के लिए केंद्रीय अर्धसैनिक बल तैनात किया जाएगा.

X
केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह

भारत और पाकिस्तान के बीच धर्मशाला में होने वाले वर्ल्ड टी20 मैच पर बनी अनिश्चितता के बीच केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि 19 मार्च को होने वाले मैच की सुरक्षा के लिए केंद्रीय अर्धसैनिक बल तैनात किए जाएंगे.

उन्होंने कहा, ‘यदि हिमाचल प्रदेश सरकार सुरक्षाबल की मांग करती है तो हम देंगे.’

क्या है मामला?
हिमाचल के पूर्व सैनिक जनवरी में पठानकोट पर हुए आतंकवादी हमले के मद्देनजर इस मैच का विरोध कर रहे हैं. हिमाचल के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने मंगलवार को गृहमंत्री को पत्र लिखकर कहा था कि उनकी सरकार इस मैच की सुरक्षा की व्यवस्था नहीं कर सकती. पीसीबी प्रमुख शहरयार खान ने भी पाकिस्तानी खिलाड़ियों की फुलप्रूफ सुरक्षा के लिए बीसीसीआई को लेटर लिखा था.

पाक ने दी वर्ल्ड टी20 से हटने की धमकी
पाकिस्तान ने बीसीसीआई की तरफ से सुरक्षा गारंटी नहीं मिलने और वर्ल्ड टी20 में उसकी भागीदारी को लेकर भारत सरकार के सार्वजनिक बयान नहीं देने की स्थिति में इस टूर्नामेंट से हटने की धमकी दी.

ये भी पढ़ें-
PAK धर्मशाला में खेलेगा तो पिच खोद देंगे: वीरेंद्र शांडिल्य

इस संबंध में गृहमंत्री निसार अली खान ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष शहरयार खान के साथ भारत में अपने क्रिकेटरों की सुरक्षा को लेकर टेलीफोन पर बात की. गृह मंत्रालय के बयान में कहा गया है, ‘इस पर सहमति जताई गई है कि जब तक फुलप्रूफ और संतोषजनक सुरक्षा प्रदान नहीं की जाती है तब तक क्रिकेट टीम को भारत जाने की अनुमति नहीं जा सकती है.’

शहरयार ने कहा कि सरकार ने बोर्ड से कहा है वह पाकिस्तान टीम के लिए मैचों में की गई सुरक्षा स्थिति पर पूर्ण रिपोर्ट हासिल करे. उन्होंने कहा, ‘बीसीसीआई ने हमें निजी तौर पर आश्वासन दिया है लेकिन हम सार्वजनिक बयान चाहते हैं क्योंकि यह महत्वपूर्ण है. हमने आईसीसी को लिखा है और उन्हें आगे आना चाहिए. हमने भारत सरकार से कहा कि वह हमें आश्वासन दे और बयान जारी करे.’

शहरयार ने कहा, ‘यदि वे बयान नहीं देते तो फिर हमारे लिए भारत जाना मुश्किल होगा. फैसला करने के लिए कोई समयसीमा तय नहीं की गई लेकिन तब तक हम स्थिति पर निगरानी रखेंगे और यहां तक कि आखिरी क्षणों में इससे हट सकते हैं.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें