scorecardresearch
 

CWG: फिर सिल्वर में सिमट गईं सीमा पूनिया, नवजीत को मिला ब्रॉन्ज

कॉमनवेल्थ खेलों के आठवें दिन भारतीय एथलीटों ने सबसे ज्यादा पदक झटके.

सीमा पूनिया और  नवजीत ढिल्लन सीमा पूनिया और नवजीत ढिल्लन

कॉमनवेल्थ खेलों के आठवें दिन भारतीय एथलीटों ने सबसे ज्यादा पदक झटके. एथलेटिक्स से डिस्कस थ्रो में भारत को दो पदक हासिल हुए. अनुभवी डिस्कस थ्रोअर सीमा पूनिया और युवा नवजीत ढिल्लन ने पदक जीते. सीमा को सिल्वर और नवजीत को ब्रॉन्ज मेडल मिला. ऑस्ट्रेलिया की डैनी स्टीवंस ने राष्ट्रमंडल खेलों का 20 साल पुराना गेम रिकॉर्ड तोड़ते हुए स्वर्ण पदक हासिल किया.

गोल्ड मेडल से चूकीं सीमा

34 साल की सीमा ने सभी आठ प्रयासों में 60.41 मीटर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए दूसरे स्थान पर रहकर रजत पदक जीता. इसके अलावा, नवजीत ने 57.43 मीटर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर कांस्य पदक पर कब्जा जमाया. डैनी स्टीवंस ने 68.26 मीटर का शानदार प्रदर्शन करते हुए सोना जीता. न्यूजीलैंड की बेट्रिस रोइनी लियुआ ने 20 सितंबर, 1998 में कुआलालंपुर में 65.92 मीटर तक चक्का फेंक राष्ट्रमंडल खेलों का रिकॉर्ड बनाया था, जिसे स्टीवंस ने तोड़ दिया.

कॉमनवेल्थ खेलों का दूसरा सिल्वर

हरियाणा की सीमा पूनिया गोल्ड कोस्ट 'गोल्ड मेडल' जीतने के इरादे से गई थीं. लेकिन एक बार फिर उन्हें निराशा हाथ लगी. सीमा को सिल्वर मेडल से संतोष करना पड़ा. सीमा ने सबसे पहले 2006 मेलबर्न कॉमनवेल्थ खेलों में सिल्वर मेडल जीता था. इसके बाद 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ खेलों में उन्हें ब्रॉन्ज मेडल मिला था. इसके बाद ग्लास्गो कॉमनवेल्थ खेलों में भी वो सिल्वर जीतने में कामयाब रहीं थी. लेकिन गोल्ड कोस्ट में अपना आखिरी कॉमनवेल्थ गेम्स में उनका गोल्ड लेने का सपना टूट गया.

नवजीत का प्रदर्शन

पंजाब की युवा डिस्कस थ्रोअर नवजीत ढिल्लन की शुरुआत निराशाजनक रही. उन्होंने पहले प्रयास में केवल 55.61 मीटर की दूरी तय की और दूसरे एवं तीसरे प्रयास में वह असफल रही. चौथे प्रयास में सुधार करते हुए नवजीत ने 56.22 मीटर तक चक्का फेंका, जबकि पांचवें प्रयास में वह केवल 54.09 मीटर की ही दूरी तय कर पाई. ऐसा प्रतीत हो रहा था कि न्यूजीलैंड की सोसितीना हाकेई कांस्य पदक पर कब्जा करेंगी. लेकिन, अंतिम प्रयास में वह सिर्फ 56.96 मीटर की दूरी तय कर पाईं. जबकि नवजीत ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 57.43 मीटर की दूरी तय करके कांस्य पदक अपने नाम कर लिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें