scorecardresearch
 

50 साल बाद सावन में बन रहा है ऐसा संयोग...

सावन के महीने में की गई शिव पूजा हमारो साल के यज्ञ के बराबर फल देती है और इस महीने को भगवान शिव को समर्पित किया गया है. इस साल इस मौके पर एक अद्भुत संयोग बन रहा है जो आपके सारे बिगड़े काम पूरे कर देगा...

सावन का महीना शिव भक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है सावन का महीना शिव भक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है

भगवान शिव की भक्ति का महीना सावन शुरू होने वाला है और इस बार सावन कई अदभुत योग लेकर रहा है. ज्योतिषाचार्यों की मानें तो 50 वर्ष बाद सावन में ऐसा योग बन रहा है, जिसमें रोजगार में तरक्की, आय में वृद्धि ज्ञान और कृषि के क्षेत्र में उन्नति की संभावनाएं प्रबल हैं.

इसी के साथ बीमारियों से छुटकारा दिलाने वाले जैसे कई ग्रह परिवर्तन भी इसी महीने में हो रह हैं. सावन में 20 से 18 अगस्त तक कई ग्रह एक स्थान पर रहेंगे और सावन के चारों सोमवार को व्रत और पूजन करने की खास विधि आपको भगवान भोले का आशीर्वाद जरूर दिलाएगी...

20 जुलाई को बुधवार के दिन ही सावन का आगमन प्रतिपदा तिथि और उत्तर आषाढ़ नक्षत्र में होगा.

- सावन का पहला सोमवार: सावन का पहला सोमवार 25 जुलाई को है और यह धृति योग में आएगा. इस दिन शिव की अराधना करने पर जीवन में सभी बाधाएं खत्म होंगी.

- सावन का दूसरा सोमवार: सावन का दूसरा सोमवार एक अगस्त को वज योग में पड़ेगा. इस योग में शिव स्तुति करने से शक्ति मिलती है और स्वास्थ्य ठीक रहता है.

- सावन का तीसरा सोमवार: सावन का तीसरा सोमवार आठ अगस्त को साद्य योग में आएगा. इस दिन शिव की पूजा करने से कठिन से कठिन काम भी पूर्ण होंगे.

- सावन का चौथा सोमवार: सावन का चौथा सोमवार 15 अगस्त को आयुष्मान योग में आएगा. इस दिन शिव की अराधना करने वाले जातकों की आयु में वृद्धि होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें