scorecardresearch
 

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी का क्या है सच? जानें पूरा मामला

Gyanvapi Masjid Case: ज्ञानवापी का क्या है सच? जानें पूरा मामला

Gyanvapi Masjid Case update: ज्ञानवापी केस की वादी राखी सिंह अपना नाम वापस नहीं लेगीं, उनके वकील शिवम गौड़ ने बताया कि वो नाम वापस नहीं लेंगी. मुस्लिम पक्ष की ओर से कोर्ट कमिश्नर पर उठाए गए सवालों को भी हिंदू पक्ष ने खारिज कर दिया है. आज की सुनवाई में हिंदू पक्ष ने तहखाने का ताला तुड़वाने की अपील की है. आज आपको ज्ञानवापी विवाद का हर पहलू समझाने और बताने की कोशिश करेंगे. आपको सबसे पहले 1936 का एक नक्शा दिखाते हैं। ये नक्शा अंग्रेजों के समय में काशी के डीएम जेम्स प्रिंसेप ने बनाया था. दरअसल, उस समय ही मंदिर-मस्जिद विवाद सामने आया था. तब मौके का मुआयना करने के बाद जेम्स प्रिंसेप ने ये नक्शा बनाया और इसमें दिखाया कि मंदिर के ऊपर मस्जिद बनाई गई है. वहीं जो डॉट वाली लाइन है वो उनके मुताबिक मंदिर के ऊपर बनाई गई मस्जिद के हिस्से को दिखाती है। हिंदू पक्ष ने सबूत के तौर पर इसे पेश किया है. देखें ये एपिसोड.

Gyanvapi case plaintiff Rakhi Singh will not withdraw her name, her lawyer Shivam Gaur told that she will not withdraw her name. The questions raised by the Muslim side on the court commissioner have also been rejected by the Hindu side. In today's hearing, the Hindu side has appealed to break the lock of the basement. In this episode, watch every aspect of the Gyanvapi controversy. Watch.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें