scorecardresearch
 

MP: खुद ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा दूल्हा, दुल्हन ने खुश होकर कही ये बात

मध्य प्रदेश के हरदा जिले (MP Harda) में एक दूल्हा अनोखे अंदाज में ट्रैक्टर पर सवार होकर बारात लेकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा. दूल्हे ने ट्रैक्टर भी खुद चलाया.

X
ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा दूल्हा. ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा दूल्हा.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मध्य प्रदेश के हरदा जिले का मामला
  • सोशल मीडिया पर वीडियो हो रहा वायरल 

मध्य प्रदेश के हरदा जिले (MP Harda) में एक दूल्हा खुद अपनी बारात में ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा. इसका वीडयो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. दरअसल, 3 मई को हरदा में गाडामोड़ गांव के जितेंद्र राजपूत की शादी थी. जितेंद्र की बारात नर्मदापुरम जिले के बिसोनी में जानी थी. जितेंद्र के पिता किसान हैं. जितेंद्र अपनी शादी में में खुद ही ट्रैक्टर चलाकर बारात लेकर पहुंचे.

जितेंद्र का कहना है कि हम धरतीपुत्र किसान हैं. आज खेती करने का प्रमुख वाहन ट्रैक्टर है, इसलिए तय किया कि ट्रैक्टर पर सवार होकर बारात निकाली जाएगी. कोई बारात में प्लेन, हेलिकॉप्टर या कार लेकर पहुंचता है, लेकिन मेरे पिता किसान हैं. इसलिए हम ट्रैक्टर से बारात लेकर गए.

यह भी पढ़ेंः UP: पत्नी ने कराई पति की दूसरी शादी, बारात में जमकर झूमी, फिर विदा कराके सौतन को घर भी ले आई

जिले के गाडामोड़ के रहने वाले किसान शंकर सिंह राजपूत के बेटे जितेंद्र का विवाह नर्मदापुरम के बिसोनी कला में तय हुआ था. हरदा के राजपूत छात्रावास में बारात लेकर पहुंचे जितेंद्र राजपूत के अंदाज की चर्चा हो रही है. बारहवीं तक शिक्षित जितेंद्र जब अपनी बारात में खुद ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के साथ सात फेरे लेने पहुंचे तो हर कोई आश्चर्यचकित था. ट्रैक्टर में सवार दूल्हे का स्वागत किया गया. शादी में शामिल लोगों ने भी कहा कि पहली बार इस तरह से दूल्हे को ट्रैक्टर पर देखकर थोड़ा अचरज भी हुआ और अच्छा भी लगा.

'अनूठा करने के लिए पैसों की बर्बादी करना जरूरी नहीं'

MP: खुद ट्रैक्टर चलाकर दुल्हन के दरवाजे पर पहुंचा दूल्हा, दुल्हन ने खुश होकर कही ये बात

इस बारे में दुल्हन सोनी राजपूत भी खुश थीं. उन्होंने कहा कि वह स्वयं एक किसान की बेटी है. ट्रैक्टर जमीन से जुड़े लोगों की पहचान है. सोनी का कहना है कि उनके पति हिम्मत करके कृषि वाहन पर सवार होकर बारात लाए, जो बिना अतिरिक्त कोई खर्च के हमेशा के लिए यादगार बन गई.

वहीं ग्रामीण राजेश शर्मा ने कहा कि आज के युवा लाखों रुपये खर्च कर विवाह को अनूठा बनाते हैं, लेकिन जितेंद्र ने साबित कर दिया कि अनूठा करने के लिए पैसों की बर्बादी करना जरूरी नहीं है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें