scorecardresearch
 

साहित्य आजतक 2019: पत्रकार ने बताया- पहाड़ के लोग कैसे लौटेंगे अपने घर

साहित्य आजतक 2019 के कार्यक्रम में शुक्रवार को पहले दिन विभिन्न क्षेत्र की हस्तियों ने शिरकत की. साहित्य, सिनेमा, संगीत, कला आदि क्षेत्र के दिग्गज लोगों ने अपने अनुभव साझा किए.

साहित्य आजतक: भारतीय तट रक्षक बल के पूर्व महानिदेशक राजेंद्र सिंह और पत्रकार मंजीत सिंह नेगी साहित्य आजतक: भारतीय तट रक्षक बल के पूर्व महानिदेशक राजेंद्र सिंह और पत्रकार मंजीत सिंह नेगी

  • उत्तराखंड में 2013 में आई प्राकृतिक आपदा पर चर्चा
  • सरकारी प्रयासों से हालात में जल्दी से सुधारः राजेंद्र

साहित्य आजतक 2019 के कार्यक्रम में शुक्रवार को पहले दिन विभिन्न क्षेत्र की हस्तियों ने शिरकत की. साहित्य, सिनेमा, संगीत, कला आदि क्षेत्र के दिग्गज लोगों ने अपने अनुभव साझा किए. पहाड़ के महारथी नाम के सत्र में भारतीय तट रक्षक बल के पूर्व महानिदेशक राजेंद्र सिंह और पत्रकार मंजीत सिंह नेगी ने पहाड़ की संस्कृति, भाषा और 2013 में आई प्राकृतिक आपदा के बारे में चर्चा की.


राजेंद्र सिंह ने केदारनाथ मंदिर पुनर्निर्माण को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की तारीफ की. उन्होंने कहा कि त्रासदी से केदारनाथ घाटी पूरी तरह से तहस-नहस हो गई थी, लेकिन सरकार के प्रयासों की वजह से इसके हालात में जल्दी से सुधार आए हैं. पीएम मोदी ने केदारनाथ त्रासदी के बाद उत्तराखंड को एक नई पहचान दी है. त्रासदी के बाद उत्तराखंड के लिए काफी काम किया गया.

बतौर पत्रकार आपदा को कवर किया

साहित्य आजतक 2019 कार्यक्रम में पत्रकार मंजीत सिंह नेगी ने 2013 में आई प्राकृतिक आपदा को लेकर विस्तार से चर्चा की. एक पत्रकार के तौर पर उन्होंने किस तरह से इस घटना को कवर किया इसका अनुभव साझा किया. किताब 'केदारनाथ से साक्षात्कार' लिखने वाले मंजीत सिंह नेगी ने बताया कि प्राकृतिक आपदा की यह घटना 12-13 जून 2013 की घटना है.


उस वक्त मंजीत ऋषिकेश में थे, उन्होंने बताया, मुझे घटना के बारे में 13 जून की रात को पता चला. ऑफिस से फोन आया कि मुझे इसे कवर करना है. मैंने 14 तारीख को आगे बढ़ने की कोशिश की ताकि जान सकें कि केदारघाटी में असल में क्या हो रहा है. काफी जद्दोजहद के बाद 18 जून को मैं गुप्त काशी पहुंच पाया.

मंजीत ने बताया कि इसी दौरान 10-15 मिनट के लिए एक हेलीकॉप्टर मिला. उसी से जितना देख सका उसे मैंने कवर किया. मैंने इस दौरान मंदिर में जाने की कोशिश की, ताकि देखा जा सके कि क्या हालात हैं. ये 19 जून की बात होगी. मंदिर परिसर में शव पड़े हुए थे. सरकार की ऐसी कोई कोशिश नहीं थी कि लोगों को फौरन राहत मिले. लेकिन मुझे लगता है कि अगर आपदा से निपटने की तैयारी होती तो इतने लोग इसके शिकार नहीं होते.  कई जगह भूख, प्यास और ठंड की वजह से लोग मर रहे थे. 

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें

हिल वरियरः पहाड़ के महारथी

मंजीत ने अपनी एक दूसरी किताब 'हिल वरियर' के बारे में भी बताया जिसमें उत्तराखंड से निकलने वाले उन लोगों के बारे में चर्चा है जो बड़े बड़े ओहदों पर पहुंचे हैं. इनमें उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, सेना प्रमुख बिपिन रावत, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसे लोग शामिल हैं. उन्होंने कहा कि इन शख्सियतों के बारे में लोग गूगल करते हैं, लेकिन उनकी किताब वो जानकारियां हैं जिसे गूगल पर नहीं हासिल किया जा सकता है.

साहित्य आजतक की पूरी कवरेज यहां देखें

पहाड़ से पलायन पर मंजीत कहते हैं कि उनकी किताब 'हिल वारियर' में जिन शख्सियतों के बारे में चर्चा की गई है अगर वे लोग अपने-अपने गांव और शहर लौट जाएं. ये लोग स्थानीय स्तर पर सुधार को लेकर काम करें तो मुमकिन है कि दूसरे लोग भी गांव लौटने लगेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें