scorecardresearch
 

आ गई है मोहिनी अदरक, पैदावार दोगुना और रोग भी नहीं लगेंगे!

एक दशक से भी अधिक समय तक रिसर्च के बाद इस अदरक की किस्म को तैयार करने वाले सोमेन्द्र चक्रबर्ती ने कहा कि इस अदरक में रोग भी अपेक्षाकृत कम लगते हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

नॉर्थ बंगाल के कूच बिहार जिले की एग्रीकल्चर युनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक खास किस्म की अदरक तैयार की है. इसे मोहिनी नाम दिया गया है. पारम्परिक अदरक से ना केवल इसकी महक अच्छी है बल्कि पैदावार भी अधिक है.

बंगाल और कई अन्य जगहों पर टेस्टिंग के बाद यूनियन कृषि डिपार्टमेंट ने इस नए किस्म की अदरक का जनवरी में बाकायदा नोटिफिकेशन निकाला था. एक दशक से भी अधिक समय तक रिसर्च के बाद इस अदरक की किस्म को तैयार करने वाले सोमेन्द्र चक्रबर्ती ने कहा कि इस अदरक में रोग भी अपेक्षाकृत कम लगते हैं.

शारीरिक मजबूती चाहिए तो रोज करें इस सब्जी का सेवन

उनके मुताबिक, 'मोहिनी अन्य पारंपरिक अदरकों के मुकाबले लगभग दो गुना अधिक पैदा होती है. जहां अन्य अदरक एक हेक्टेयर में 6-10 टन की ही उपज देती हैं मोहिनी की पैदावार 14 टन होती है.'

अशुभ होने की स्थिति में मंगल देते हैं ये संकेत

उन्होंने बताया कि मोहिनी अदरक को इंटरनेशनल जर्नल्स ऑफ साइंस, एनवायरमेंट और टेक्नॉलजी में जगह दी गई है. गौरतलब है कि 70 प्रतिशत अदरक का उत्पादन केरल में होता है. अदरक की खेती असम, बंगाल, सिक्किम, आंध्र प्रदेश और हिमाचल में भी होती है.     

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें