scorecardresearch
 

अगर प्रेग्नेंट बीवी को आते हैं चक्कर और होती हैं उल्ट‍ियां तो खुश हो जाइए...

गर्भवती महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस से परेशानी तो होती है लेकिन एक नए शोध के मुताबि‍क यह उनके बच्चे के लिए फायदेमंद है.

मॉर्निंग सिकनेस हैं शुभ संकेत मॉर्निंग सिकनेस हैं शुभ संकेत

ज्यादातर गर्भवती महिलाएं मॉर्निंग सिकनेस से परेशान रहती हैं. पर एक नए शोध में यह बात सामने आई है कि यह आपके बच्चे के लिए शुभ संकेत हैं. जिन महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस होती है उनमें मिसकैरिज होने का रिस्क काफी कम हो जाता है. इस शोध में कहा गया कि गर्भावस्था में उल्टी की फीलिंग यानी नोजिया और उल्टी आने से भ्रूण को सुरक्षा मिलती है. यह भ्रूण को टॉक्स‍िंस और कई दूसरी बीमारियों से सुरक्षि‍त रखने में मददगार है.

ज्यादातर गर्भवती महिलाओ को नोजिया और उल्टी, गर्भधारण करने के तीन माह तक होती है. किसी-किसी को पूरे नौ माह तक यह परेशानी रहती है. हालांकि मॉर्निंग सिकनेस का क्या कारण होता है, इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं है पर शोधकर्ताओं ने कहा है कि यह भ्रूण को भोजन और अन्य कारणों से होने वाले इन्फेक्शन से बचाता है.

अमेरिका में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ चाइल्ड हेल्थ एंड ह्यूमन डेवलेपमेंट ने यह अध्ययन किया है. यहां के प्रोफेसर और डॉक्टर स्टीफेन एन हिंकल ने कहा, 'शोध में हमने गर्भावस्था के शुरुआती दिनों के लक्षणों की पड़ताल की और पाया है कि नोजिया और उल्टी के कारण भ्रूण की रक्षा होती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें