scorecardresearch
 

कम बच्चे पैदा करने की वजह से बढ़ी है महिलाओं की औसत उम्र

मौजूदा समय में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की औसत उम्र बढ़ी है और इसकी एक बड़ी वजह महिलाओं द्वारा पहले की तुलना में कम बच्चों को जन्म देना है.

बढ़ी है महिलाओं की औसत उम्र बढ़ी है महिलाओं की औसत उम्र

मौजूदा समय में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं की औसत उम्र बढ़ी है और इसकी एक बड़ी वजह महिलाओं द्वारा पहले की तुलना में कम बच्चों को जन्म देना है.

हाल में हुए एक शोध के मुताबिक,कम प्रजनन दर का महिलाओं को सीधे तौर पर लाभ मिल रहा है और उनकी औसत उम्र बढ़ी है.

शोध के अनुसार, जो महिलाएं 15 या उससे ज्यादा बच्चों को जन्म देती हैं, वे उन महिलाओं की अपेक्षा औसतन छह साल कम जिंदा रहती हैं जिनके महज एक बच्चा होता है. हालांकि पुरुषों के मामले में उनके जीवन पर पिता बनने या नहीं बनने का कोई असर नहीं देखा गया है.

स्वीडन की उप्पसाला विश्वविद्यालय की पोस्ट-डॉक्टोरल शोधार्थी और इस अध्ययन की प्रमुख शोधकर्ता एलिजाबेथ बोलंड का कहना है कि ये नतीजे जनसंख्या के पूर्वानुमान पर आधारित हैं क्योंकि जन्मदर का पैटर्न और जीवन दर पूरी दुनिया में लगातार बदल रहा है.

यह अध्ययन 'साइंटिफिक रिपोर्ट्स' में प्रकाशित किया गया है. इसमें बताया गया है कि 1900 के दशक तक शुरुआती वर्षो में जन्म लेने वाली महिलाओं का जीवन पुरुषों के मुकाबले चार साल अधिक रहा. इस दौरान प्रजनन दर में भी गिरावट दर्ज की गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें