scorecardresearch
 

वर्ल्ड चाइल्डहुड इंडेक्स में सुधरी भारत की रैंकिंग

रिपोर्ट में जिस अन्य चुनौती का उल्लेख किया गया वह है किशोरावस्था गर्भावस्था. भारत में 15 से 19 साल की उम्र की एक हजार लड़कियों में से 23.3 फीसदी लड़कियां बच्चों को जन्म देती हैं.

X
फोटो: Getty फोटो: Getty

भारत ने वर्ल्ड चाइल्डहुड इंडेक्स में अपनी रैंकिंग में सुधार किया है, लेकिन वैश्विक बाल अधिकार समूह सेव द चिल्ड्रेन द्वारा 175 देशों की सूची में देश 113वें स्थान पर पहुंच गया है. 2017 में भारत इस सूची में 116वें स्थान पर था. गुरुवार को जारी हुई 'एंड ऑफ चाइल्डहुड' शीर्षक वाली रिपोर्ट में बाल विवाह दर में कमी के लिए भारत की उपलब्धि की सराहना की गई. बाल विवाह सूचकांक में बेहतर स्थान पाने की वजह से भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ है.

भारत में तेजी से पांव पसार रहा है ये खतरनाक वायरस

भारत की जनगणना के अनुसार, इसमें यह कहा गया है हालांकि पोषण, शिशु मृत्युदर और बालश्रम देश में गंभीर चिंता का विषय बना रहा है. देश में वर्ष 2016 में पांच साल की कम उम्र के बच्चे की मृत्युदर प्रति 1000 बच्चों पर 43 थीं, जबकि भारत की जनसंख्या में इसी वर्ष प्रति 1000 जन्मे नवजातों में 39 नवजात की मौत दर्ज की गई.

रिपोर्ट में जिस अन्य चुनौती का उल्लेख किया गया वह है किशोरावस्था गर्भावस्था. भारत में 15 से 19 साल की उम्र की एक हजार लड़कियों में से 23.3 फीसदी लड़कियां बच्चों को जन्म देती हैं.

इस तरह बिताएं गर्मी की छुट्टियां, जीवनभर बनी रहेगी याद

सेव द चिल्ड्रेन इंडिया की सीईओ विदिशा पिल्लई ने कहा, "बाल विवाह में कमी के माध्यम से भारत की प्रगति सूचक को देखकर हमें काफी खुशी है. हालांकि भारत में 30 फीसदी लड़कियों का विवाह अभी भी 18 साल की उम्र से कम में हो जाता है."

उन्होंने कहा, "देश में अभी भी कई बच्चे एक लड़की या गरीब होने के कारण सुविधाओं से वंचित हैं. जल्दी विवाह, बाल मजदूरी और कुपोषण कुछ एसी वजह हैं, जिनके कारण बच्चे अपने बचपन से वंचित रह जाते हैं."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें