scorecardresearch
 

नींद नहीं आती रातों में, तो मोटापा, मधुमेह का खतरा

यदि रात में नींद के लिए आपको काफी मशक्कत करनी पड़ती है, तो आपको ध्यान देने की जरूरत है. वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर ऐसा है, तो आपको मधुमेह और मोटापा के खतरे का सामना करना पड़ सकता है.

X

यदि रात में नींद के लिए आपको काफी मशक्कत करनी पड़ती है, तो आपको ध्यान देने की जरूरत है. वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर ऐसा है, तो आपको मधुमेह और मोटापा के खतरे का सामना करना पड़ सकता है.

बोस्टन में ब्रिघम एंड वीमेंस अस्पताल के अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि जो लोग प्रति दिन पांच घंटे से कम नींद लेते हैं, उनके मेटाबोलिक रेट में बड़ा बदलाव आता है. यहां तक कि एक साल में 4.5 से 5.5 किलो वजन का इजाफा हो जाता है. जब यह लंबे समय तक यह जारी रहता है, तो मोटापा, मधुमेह का खतरा मंडराने लगता है.

अध्ययन को अंजाम देने वाले न्यूरोलॉजिस्ट और नींद विशेषज्ञ ओरफेयू बक्सटन कहते हैं, ‘तीन या चार वर्ष के भीतर ही आप मोटे हो जाते हैं.’

करीब छह सप्ताह तक बक्सटन और उनके सहयोगियों ने इसका अध्ययन किया. शोध से तीन सप्ताह पहले लोगों को 10 घंटे सोने को कहा गया. इसके बाद फिर 28 घंटे के अंदर करीब पांच घंटे तक नींद लेने को कहा गया. इस दौरान इंसुलीन और ग्लूकोज स्तर का पता लगाया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें