scorecardresearch
 

Dengue: मॉनसून में बढ़ जाता है डेंगू का खतरा, इन 5 उपायों को अपनाकर करें बचाव

मॉनसून का मौसम कई बीमारियों को साथ लेकर आता है. इस मौसम में डेंगू, मलेरिया और अन्य स्वस्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा भी बढ़ जाता है. हर साल डेंगू का प्रकोप कई लोगों की जान ले लेता है. अधिक संख्या में मच्छरों के आसपास होने के अलावा, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होना भी डेंगू के संक्रमण का कारण है.

dengue dengue
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मॉनसून में डेंगू का खतरा बढ़ जाता है
  • ऐसे करें डेंगू के इंफेक्शन से खुद का बचाव

मॉनसून का मौसम कई बीमारियों को साथ लेकर आता है. इस मौसम में डेंगू, मलेरिया और अन्य स्वस्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा भी बढ़ जाता है. हर साल डेंगू का प्रकोप कई लोगों की जान ले लेता है. अधिक संख्या में मच्छरों के आसपास होने के अलावा, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली होना भी डेंगू के संक्रमण का कारण है. डेंगू के सामान्य लक्षणों में शरीर में दर्द, तेज बुखार, थकान, उल्टी, मसूड़े या नाक से हल्की ब्लीडिंग, और त्वचा पर चकत्ते आदि शामिल हैं. ऐसे में खुद को डेंगू से बचाने के लिए बाहरी सुरक्षा के साथ-साथ आंतरिक सुरक्षा भी जरूरी है. आप अपनी डाइट में कुछ ऐसी चीजें शामिल कर सकते हैं जो डेंगू के इंफेक्शन से बचाने में मदद करती हैं.

खूब पानी पिएं- पीने का पानी फिट और स्वस्थ रहने के साथ संक्रमण को रोकने के लिए सबसे प्रभावी और सरल तरीकों में से एक है. दिनभर में खुद को संक्रमण से बचाने के लिए खूब पानी पिएं. इससे यूरीन के जरिए आपके शरीर से टॉक्सिक पदार्थ बाहर निकल जाते हैं.

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाला ड्रिंक- आप घर पर इम्युनिटी बढ़ाने वालाले ड्रिंक को आसानी से तैयार कर सकते हैं. 1 गिलास दूध में थोड़ा पानी, चुटकी भर हल्दी, केसर के 2-3 धागे और थोड़ा सा जायफल डालकर मिक्स करें. स्वाद को बढ़ाने के लिए आप गुड़ का इस्तेमाल कर सकते हैं. इस इम्यूनिटी बूस्टर ड्रिंक को गर्म या ठंडा दोनों तरह से ले सकते हैं. ये शरीर में प्रोटीन के नुकसान को रोकने और सूजन को कम करने में मदद करता है.

चावल का सूप- इसे चावल कांजी या पेज के नाम से भी जाना जाता है. चावल के सूप में हींग, काला नमक और घी डालकर इसे ले सकते हैं. ये भूख में सुधार और डिहाइडेशन की समस्या को ठीक करता है. इसके अलावा, चावल का सूप इलेक्ट्रोलाइट्स बैलेंस बनाने में मदद करता है.

गुलकंद- गुलकंद का 1 चम्मच पाचन में सुधार, कमजोरी, एसिडिटी और जी मचलना जैसी समस्याओं को रोकने में मदद करता है. आप इसका सेवन भोजन से पहले कर सकते हैं. ये सेहत के लिहाज से कई तरह से लाभदायक है.

सुप्त बद्ध कोणासन- ये आसन पैरों के तलवों को आपस में जोड़कर और पीठ के बल लेटकर किया जाता है. इस आसन से शरीर के दर्द, किडनी और प्रोस्टेट ग्रंथी के साथ कई अन्य समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें