scorecardresearch
 
लाइफस्टाइल न्यूज़

Nightmares: क्या आपको भी अक्सर आते हैं खराब सपने? जान लें वजह

डरावने सपने के कारण
  • 1/10

हर इंसान कभी ना कभी सपने जरूर देखता है. सपने अच्छे हों तो मूड अच्छा रहता है वहीं खराब या डरावने सपने परेशान करने वाले होते है. ऐसे सपने अक्सर याद रह जाते हैं और पूरा दिन खराब गुजरता है. कभी-कभी इन सपनों की वजह से नींद भी टूट जाती है. सपने क्यों आते हैं इस बारे में अभी वैज्ञानिक भी पूरी तरह पता नहीं लगा पाए हैं. हालांकि, डरावने सपने के पीछे कुछ वजहें जिम्मेदार मानी जाती हैं.
 

तनाव या मानसिक दबाव
  • 2/10

तनाव या मानसिक दबाव- कभी-कभी हर दिन होने वाले तनाव या मानसिक दबाव से बुरे सपने आने लगते हैं. स्कूल या काम के बारे में बहुत ज्यादा चिंता करने से ऐसे सपने आ सकते हैं. जीवन में कोई बड़ा बदलाव जैसे कि किसी अपने का दूर चले जाना या उसकी मौत की वजह से डरावने सपने आ सकते हैं.
 

सदमा लगने से
  • 3/10

सदमा लगने से- कभी-कभी मानसिक आघात या सदमा लगने की वजह से भी बुरे सपने आने लगते हैं. जैसे किसी तरह का शारीरिक शोषण, सेक्सुअल एब्यूज या फिर एक्सीडेंट का असर दिमाग पर बहुत ज्यादा पड़ता है और सोते समय ये डरावने सपने के रूप में हमें याद आता है. कुछ लोगों को पोस्ट ट्रॉमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD) की समस्या होती है. ऐसे लोगों में बुरे या डरावने सपने आना आम बात है.
 

मानसिक हालात
  • 4/10

मानसिक हालत- किसी तरह की मानसिक बीमारी जैसे कि बाइपोलर डिसऑर्डर, डिप्रेशन, बार-बार तनाव होना, सिजोफ्रेनिया जैसी बीमारी होने पर बुरे सपने आने की संभावना बढ़ जाती है. डॉक्टर आपको तनाव कम करने वाली कई तकनीकों के बारे में बता सकते हैं. इससे बुरे सपने कम आते हैं.
 

कुछ दवाएं
  • 5/10

कुछ दवाएं- कुछ दवाएं खाने से भी बुरे सपने आते हैं. जैसे कि एंटीडिप्रेसन्ट, एंटीमाइक्रोबियल्स, बीटा- ब्लॉकर्स, ब्लड प्रेशर की दवाएं, पार्किंसन डिजीज की दवाएं और स्मोकिंग को रोकने वाली दवाएं. अगर आपको लगता है कि दवाओं की वजह से आपको बुरे सपने आते हैं तो अपने डॉक्टर से इस बारे में बात करें. हर दिन ली जाने वाली कुछ दवाएं अचानक से बंद करने का असर भी दिमाग पर पड़ता है जिसकी वजह से बुरे सपने आते हैं.
 

नींद पूरी ना लेना
  • 6/10

नींद पूरी ना लेना- अच्छी या पूरी नींद ना लेने से भी खराब सपने आते हैं. आमतौर पर ये शेड्यूल में बदलाव की वजह से होता है. जैसे कि आप ऐसे समय पर सोते या उठते हैं जिसकी आपको आदत नहीं है तो आपको अच्छी नींद नहीं आती है और आप कुछ अधजगी अवस्था में बुरे सपने देखते हैं.
 

सोने से ठीक पहले खाना
  • 7/10

सोने से ठीक पहले खाना- सोने से ठीक पहले खाना खाने से मेटाबॉलिज्म तेज हो जाता है और इसकी वजह से दिमाग भी अधिक सक्रिय हो जाता है. अगर आपको बुरे या डरावने सपने ज्यादा आते हैं तो खाने और सोने की बीच में गैप को और बढ़ाएं.
 

स्लीप एपनिया
  • 8/10

स्लीप एपनिया- जिन लोगों को स्लीप एपनिया की समस्या होती हैं, उन्हें बुरे सपने ज्यादा आते हैं. कुछ शोध के मुताबिक, स्लीप एपनिया से होने वाले तनाव की वजह से बुरे सपने आते हैं. CPAP  थेरेपी इस तरह के सपने में कमी ला सकती है.
 

डरावनी किताबें या मूवी-
  • 9/10

डरावनी किताबें या मूवी- कभी-कभी कुछ डरावनी किताबें पढ़ने या ऐसी फिल्म देखने से भी डरावने सपने आते हैं. खासतौर से अगर आप इसे ठीक सोने से पहले देखते या पढ़ते हैं तो दिमाग पर इसका असर ज्यादा होता है. कुछ वीडियो गेम और टीवी शोज का भी दिमाग पर ऐसा ही असर होता है. सोने से पहले इस तरह की एक्टिविटी करने से बचें.
 

क्या करें-
  • 10/10

क्या करें- कुछ खास तरीकों को अपना कर आप इन बुरे सपनों से बच सकते हैं. जैसे कि हर दिन एक ही समय पर सोने और उठने की आदत डालें. अल्कोहल, कैफीन और सिगरेट से दूर रहें. दिन की शुरुआत हल्की-फुल्की एक्सरसाइज करें. सोने से ठीक पहले टीवी शो, मूवी देखना या वीडियो गेम खेलना बंद कर दें. अगर ये सब करने के बाद भी आपको बार-बार डरावने सपने आते हैं तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.