scorecardresearch
 

स्‍वामी निगमानंद की मौत ने खड़े किए सवाल

स्वामी निगमानंद गंगा को बचाने की ज़िद में भूखे बैठे रहे, किसी ने उनकी ओर ध्यान नहीं दिया और जब उन्होंने 115 दिन बाद  अस्पताल में दम तोड़ दिया तो हरिद्वार से लेकर दिल्ली तक हंगामा हो गया है. प्रशासन अपनी तरफ से सफाई दे रहा है और राजनीति करने वालों को तो बस मौका मिल गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें