scorecardresearch
 

अयोध्याः भतीजे ने 20 लाख की जमीन ट्रस्ट को 2.5 करोड़ में बेची, महंत ने उठाए मेयर पर सवाल

अयोध्या में राम मंदिर के लिए जमीन खरीद को लेकर एक नया विवाद सामने आया है, जिसमें मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के भतीजे दीप नारायण की भूमिका सामने आ रही है. इस मामले पर अयोध्या के महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य ने आरोप लगाया है कि मेयर खुद उनसे राम मंदिर के नाम पर जमीन मांगने आए थे. हालांकि, मेयर ने इन आरोपों को खारिज किया है.

X
अयोध्या में बन रहे राम मंदिर का प्रस्तावित मॉडल (फोटो-PTI) अयोध्या में बन रहे राम मंदिर का प्रस्तावित मॉडल (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • राम मंदिर ट्रस्ट के जमीन सौदों पर उठ रहे सवाल
  • मेयर के भतीजे ने 20 लाख की जमीन 2.5 करोड़ में बेची
  • अयोध्या के महंत ने मेयर पर लगाए आरोप

अयोध्या में राम मंदिर के लिए खरीदी गई जमीन को लेकर एक नया विवाद सामने आया है, जिसमें मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के भतीजे दीप नारायण उपाध्याय की भूमिका सामने आ रही है. इस मामले पर अयोध्या के महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य ने आरोप लगाया है कि मेयर खुद उनसे राम मंदिर के नाम पर जमीन मांगने आए थे. हालांकि, मेयर ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है.

हमने रामजी के लिए दे दी जमीनः महंत
अयोध्या के महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य ने आजतक को बताया कि राम मंदिर ट्रस्ट की ओर से उनसे कोई नहीं मिला था, मेयर ही उनसे मिले थे. उन्होंने बताया, "ट्रस्ट ने हमसे सीधे संपर्क नहीं किया. मेयर ऋषिकेश उपाध्याय मिले थे. हमसे कहा गया कि रामलला ट्रस्ट को जरूरत है तो हमने कहा कि ले लें. हमें लगा कि वो ट्रस्ट से अधिकृत हैं. इसलिए राम जी के लिए हमने जमीन दे दी."

उन्होंने आगे कहा, "उन्होंने कैसे जमीन को 2.5 करोड़ में बेच दिया, ये मेरी समझ से परे है. अगर इतनी महंगी ट्रस्ट को बेच रहे थे, हमें भी उस हिसाब से देना चाहिए था." उन्होंने कहा, "भगवान के नाम पर पैसों का दुरुपयोग नहीं होना चाहिए. ये गलत है. अयोध्या में राम जी जानें कि क्या हो रहा है? राम जी के नाम पर जो ठगेगा, उसे राम जी ही देखेंगे. भगवान सबको सद्बुद्धि दे कि उनके पैसे का दुरुपयोग न हो."

अयोध्या जमीन विवाद: करोड़ों में जमीन बेचने वाले हरीश पाठक की पुलिस को 3 साल से तलाश

आरोप है कि मेयर के भतीजे ने सस्ते में जमीन खरीदकर ट्रस्ट को ऊंचे दाम पर बेच दी.

मैं महंत से मिलने नहीं गयाः मेयर
वहीं, मेयर ने महंत के लगाए सभी आरोपों को खारिज कर दिया. मेयर ऋषिकेश उपाध्याय ने आजतक को बताया कि वो एक-दो दिन में जवाबों के साथ हाजिर होंगे. उन्होंने कहा, "मैं महंत से मिलने नहीं गया था. ये मुझ पर राजनीतिक वार है. मैं कोर्ट में इन आरोपों का जवाब दूंगा." भतीजे दीप नारायण उपाध्याय की भूमिका पर मेयर ने कुछ नहीं कहा. मेयर ने बस इतना कहा कि किसी ने गड़बड़ी की होगी तो कार्रवाई होगी.

क्या है पूरा मामला?
मेयर ऋषिकेश उपाध्याय के भतीजे दीप नारायण उपाध्याय ने 20 फरवरी 2021 को अयोध्या के महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य से 135 से 890 वर्ग मीटर की जमीन 20 लाख रुपए में खरीदी थी. 3 महीने बाद 11 मई 2021 को दीप नारायण ने इसी जमीन को राम मंदिर ट्रस्ट को 2.5 करोड़ रुपए में बेच दिया. इतना ही नहीं, मेयर के भतीजे ने एक 676.86 वर्ग मीटर की एक और जमीन 27 लाख में खरीदी और इसे 1 करोड़ में ट्रस्ट को बेच दी.

जमीन को लेकर भी एक विवाद?
हालांकि, 890 वर्ग मीटर की जो जमीन 2.5 करोड़ में बेची गई है, वो महंत देवेंद्र प्रसाद आचार्य से खरीदी गई थी. ये जमीन नजूल की यानी सरकारी थी. इस पर महंत का कब्जा था. हालांकि जमीन को बेचने से पहले फ्री होल्ड किया गया था या नहीं, ये अभी साफ नहीं है. दूसरी बात ये कि फ्री होल्ड कराने के लिए कब्जा धारक को सरकार को निर्धारित धनराशि देनी होती है, इस केस में वो हुआ था कि नहीं, ये भी साफ नहीं है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें