scorecardresearch
 

लव जिहाद कानून की मांग, ओवैसी बोले- नफरत का ऐसा प्रचार काम नहीं करेगा

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने 'लव जिहाद' की आड़ लेकर अंतर-धार्मिक विवाह का विरोध करने वालों के खिलाफ निशाना साधा है. ओवैसी ने कहा कि जिन राज्यों में लव जिहाद को लेकर कानून बनाए जाने की बात कही जा रही है वो संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है.

हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी (फोटो-PTI) हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई राज्यों में लव जिहाद पर कानून की मांग
  • स्पेशल मैरिट एक्ट खत्म करना संविधान का उल्लंघन
  • विरोध करने वाले पहले संविधान पढ़ें- ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने 'लव जिहाद' की आड़ लेकर अंतर-धार्मिक विवाह करने वालों के खिलाफ निशाना साधा है. ओवैसी ने कहा कि जिन राज्यों में लव जिहाद को लेकर कानून बनाए जाने की बात कही जा रही है वो संवैधानिक प्रावधानों का उल्लंघन है.

कुछ राज्यों द्वारा लव जिहाद का कानून बनाने की बात पर ओवैसी ने कहा कि यह अनुच्छेद 14 और 21 का घोर उल्लंघन होगा. विशेष विवाह अधिनियम को तब भंग किया जाएगा. अंतर-धार्मिक विवाह का विरोध करने वालों को संविधान का अध्ययन करना चाहिए. नफरत का ऐसा प्रचार काम नहीं करेगा. बीजेपी बेरोजगारी का शिकार हुए युवाओं को विचलित करने के लिए यह नाटक कर रही है. 

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में ग्रेटर हैदराबाद नगरनिगम चुनाव पर ओवैसी ने कहा कि हैदराबाद बाढ़ प्रभावित रहा है. मोदी सरकार ने हैदराबाद को कौन सी वित्तीय सहायता प्रदान की है? वे इसे (चुनाव) सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने उस समय कोई मदद नहीं की. उनकी यह चाल यहां काम नहीं करेगी, लोग जानते हैं.

देखें: आजतक LIVE TV

ओवैसी ने बीजेपी पर तंज कसा. उन्होंने कहा कि यदि आप रात में एक बीजेपी नेता को जगाते हैं और उनसे कुछ नाम बताने के लिए  कहते हैं, तो वे ओवैसी का नाम लेंगे. इसके बाद वो गद्दार, आतंकवाद और अंत में पाकिस्तान पर आ जाएंगे. बीजेपी को बताना चाहिए कि 2019 के बाद उन्होंने तेलंगाना को, खासकर हैदराबाद को कौन सी वित्तीय मदद मुहैया कराई है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें