scorecardresearch
 

राहुल गांधी के सोने पर हंगामा कैसा, सोने वाले तो और भी हैं...

संसद में एक सांसद को नींद क्या आई, जैसे पूरा देश जाग उठा. लोगों के लिए यह यकीन करना मुश्किल हो रहा था कि जब लोकसभा में एक बेहद अहम मसले पर चर्चा हो रही थी, तो उनके सांसद सोते पाए गए.

सदन में नींद की आगोश में राहुल गांधी सदन में नींद की आगोश में राहुल गांधी

संसद में एक सांसद को नींद क्या आई, जैसे पूरा देश जाग उठा. लोगों के लिए यह यकीन करना मुश्किल हो रहा था कि जब लोकसभा में एक बेहद अहम मसले पर चर्चा हो रही थी, तो उनके सांसद सोते पाए गए.

राहुल गांधी बजट सत्र में महंगाई पर चर्चा के दौरान पहले तो जम्हाई लेते, फिर सिर झुकाकर सोते पाए गए. जम्हाई लेना तो किसी इंसान के लिए एक सहज-स्वाभाविक प्रक्रिया है. आखि‍र राहुल गांधी भी हाड़-मांस के बने इंसान हैं. कांग्रेस के 'युवराज' के इस तरह सदन में सोते पाए जाने पर चुटकी लेते वक्त हम यह भूल जाते हैं कि बीती रात बहुत कम लोगों ने ही गहरी नींद ली होगी. लोग फुटबॉल वर्ल्डकप के सेमीफाइनल में ब्राजील को जीतते देखना चाहते होंगे, जो शायद नीयति को मंजूर नहीं था...

कोई यह सवाल उठा सकता है कि क्या इन सियासतदानों के सोने के लिए लोकसभा ही एक जगह बची है? इसका कोई तीखा जवाब सोचने की जगह हमें यह जरूर देखना चाहिए कि जब संसद में कामकाज चल रहा होता है, तब वहां गजब की शांति होती है. जब सदन में किसी ज्वलंत मसले पर चर्चा होती है, तो वहां बहुत कम सदस्य मौजूद होते हैं. गौर कीजिए, राहुल तब तो सोते नहीं पाए गए न, जब बाकी सदस्य किसी मामूली-सी बात पर स्थगन प्रस्ताव लेकर वेल में शोर-शराबा कर रहे हों!

 मंत्री महोदय को आई नींद...

सदन का कामकाज सुचारू रूप से चल रहा था. याद रखि‍ए कि जब संसद में एकदम आदर्श स्थि‍ति में काम हो रहा होता है, तो वहां क्या होता है...वहां सिर्फ बात ही तो हो रही होती है. इसी बातचीत को आप 'भाषण' का नाम दे देते हैं. जिसे बोलना होता है, अक्सर वही वहां मौजूद होता है. अगर आप गौर करें, तो राहुल गांधी उस सदस्य के ठीक पीछे सोए, जो भाषण दे रहा है.

...तो वह झपकी लेने के लिए वह एकदम आदर्श वक्त था. यह न तो पहला मामला है और न आखिर, जब कोई सदस्य सदन के भीतर जम्हाई लेते हुए नींद की आगोश में चला गया हो. लोकसभा को भी हिमाचल प्रदेश के सीएम वीरभद्र सिंह की तरह सदन में सोने की आदत है. वीरभद्र जब सदन में आते हैं, तो पूरी तत्परता के साथ सो जाते हैं. वे तो मंत्री थे.

 सोने वाले में पीएम साहब भी...

आज जब राहुल गांधी सोकर सुर्खियां बना रहे थे, तब मोदी के मंत्री संतोष गंगवार झपकी ले रहे थे. एचडी देवगौड़ा भी ऐसी जगह सोकर नाम कमा चुके हैं, जो कम से कम सोने के लिए तो नहीं ही बनी है.

हाल ही में दिग्विजय सिंह की एक फोटो खूब वायरल हुई, जब वे कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया के साथ एक मंच पर ही सोते पाए गए.

 जब दिग्विजय को आई मंच पर नींद

जरा सोचिए, सियासतदानों को ढेर सारे काम निपटाने होते हैं. उन्हें कई बैठकों में भाग लेना होता है. इनमें से कई तो अहले सुबह, जबकि कई देर रात को होते हैं. इन्हीं पहली और आखिरी बैठक के दौरान वे कभी 'पकड़' लिए जाते हैं. जब कांग्रेस के युवराज सोते पाए गए, तो ये शोर कैसा? कृपया शांति बनाए रखें, कहीं वे जाग न जाएं...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें