scorecardresearch
 

CM ममता से बातचीत करने को तैयार हड़ताली डॉक्टर, रखीं ये शर्तें

पश्चिम बंगाल में हड़ताली डॉक्टरों के तेवर नरम पड़े हैं. वो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बातचीत करने के तैयार हो गए हैं. हालांकि उन्होंने कुछ शर्तें रखी हैं. डॉक्टरों ने कहा है कि सीएम ममता से बातचीत बंद कमरे में नहीं होगी.

हड़ताली डॉक्टरों की एक तस्वीर (फाइल फोटो- आईएएनएस) हड़ताली डॉक्टरों की एक तस्वीर (फाइल फोटो- आईएएनएस)

पश्चिम बंगाल में हड़ताली डॉक्टरों के तेवर नरम पड़े हैं. वो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बातचीत करने के तैयार हो गए हैं. हालांकि उन्होंने कुछ शर्तें रखी हैं. डॉक्टरों ने कहा है कि सीएम ममता से बातचीत बंद कमरे में नहीं होगी. कैमरे पर मीडिया के सामने होनी चाहिए. ये बैठक कब और कहां कि जाए इसका फैसला डॉक्टरों ने सीएम ममता के ऊपर छोड़ दिया. हालांकि, उन्होंने हड़ताल खत्म करने के मुद्दे पर कुछ नहीं कहा है.

डॉक्टरों से मारपीट दुर्भाग्यपूर्ण

इससे पहले शनिवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. जिसमें सीएम ममता ने कहा था कि उनकी सरकार ने हड़ताली डॉक्टरों की सभी मांगें मान ली है. उन्होंने मरीजों का वास्ता देकर डॉक्टरों से काम पर लौटने की अपील की थी. साथ ही उन्होंने एनआरएस अस्पताल में 10 जून को डॉक्टरों से हुई मारपीट की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया था.

mamata-1_061619054803.jpgप्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करतीं CM ममता बनर्जी (फोटो- IANS)

डॉक्टरों की हड़ताल से मरीज बेहाल

वहीं, पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल रविवार को भी जारी रही. जिसके चलते स्वास्थ्य सेवाएं आंशिक रूप से बाधित रहीं और सरकारी अस्पतालों में सन्नाटा पसरा रहा. रविवार को अवकाश होने के कारण ओपीडी बंद रहे और अस्पतालों के बाहर या इमरजेंसी वार्डों में जाने वाले रोगियों की संख्या भी कम थी. हालांकि, इमरजेंसी सेवाएं सामान्य रूप से कार्य करती पाई गईं.

hospital_061619055039.jpgडॉक्टरों की हड़ताल से खाली पड़े अस्पताल (फोटो- IANS)

'बुलाने पर भी नहीं आए डॉक्टर'

सीएम ममता ने प्रेसवार्ता ने डॉक्टरों पर अड़ियल रूख अपने का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा है कि हड़ताली डॉक्टर बुलाने पर भी बातचीत को नहीं आए. साथ ही सीएम ममता ने कहा कि डॉक्टरों को लगता है कि वो अक्षम हैं तो वो राज्यपाल या मुख्य सचिव से बातचीत कर सकते हैं. बता दें कि शुक्रवार की रात, हड़ताली डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के राज्य सचिवालय में वार्ता के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया, इसके बजाय उन्हें एनआरएस अस्पताल में आने के लिए कहा.

क्यों हड़ताल पर हैं डॉक्टर्स?

बता दें कि 10 जून को कोलकाता के एनआरएस अस्पताल में एक मरीज की मौत के बाद भड़के तीमारदारों ने डॉक्टरों के साथ मारपीट की थी. इस घटना में कुछ डॉक्टर गंभीर रूप से घायल हो गए थे. घटना से आक्रोशित डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे. इसी बीच, सीएम ममता ने एक बयान सामने आया जिस पर डॉक्टर भड़क गए. इसके बाद डॉक्टरों ने काम करना बंद कर दिया. इस 300 से ज्यादा डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया. धीरे-धीरे पश्चिम बंगाल में शुरू हुई डॉक्टरोंं की हड़ताल पूरे देश में फैल गई.  

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें