scorecardresearch
 

मक्का मस्जिद फैसला कांग्रेस के मुंह पर करारा तमाचाः विश्व हिंदू परिषद

विश्व हिंदू परिषद का कहना है कि कांग्रेस ने हिंदुओं के खिलाफ षड्यंत्र के तहत साजिश रचा और हिंदू आतंकवाद का नाम देकर असली षड्यंत्रकारी साजिशकर्ताओं को कांग्रेस सरकार ने बचाया और निर्दोष हिंदुओं को फंसाया.

X
मक्का मस्जिद विस्फोट में 9 लोग मारे गए थे मक्का मस्जिद विस्फोट में 9 लोग मारे गए थे

मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में एनआईए कोर्ट के निर्णय से विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) काफी खुश है. विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय कार्याध्यक्ष आलोक कुमार ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि मक्का मस्जिद विस्फोट मामले में एनआईए का असीमानंद और सभी आरोपियों को बरी करने का फैसला कांग्रेस के मुंह पर तमाचा है.

विश्व हिंदू परिषद का कहना है कि कांग्रेस ने हिंदुओं के खिलाफ षड्यंत्र के तहत साजिश रची और हिंदू आतंकवाद का नाम देकर असली षड्यंत्रकारी साजिशकर्ताओं को कांग्रेस सरकार ने बचाया और निर्दोष हिंदुओं को फंसाया.

आलोक कुमार ने असीमानंद की रिहाई पर एक बयान में कहा कि कांग्रेस सरकार ने जांच एजेंसियों को इस्तेमाल किया और उन्हें अपना राजनीतिक मोहरा बनाया. इनका अपने फायदे के लिए इस्तेमाल किया, जिसका खुलासा आज हुआ है. असीमानंद और बाकी आरोपियों की रिहाई से यह साबित हो गया है. फैसले ने कांग्रेस सरकार की कलाई खोलकर रख दी है.

विश्व हिंदू परिषद का कहना है कि कांग्रेस की जो मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति है. उन्होंने हिंदुओं को दोयम दर्जे का नागरिक समझा. वीएचपी ने आरोप लगाया कि मक्का मस्जिद विस्फोट के जो असली मुजरिम और साजिशकर्ता थे. वह भागने में कामयाब रहे. इस बात की खुशी सबसे ज्यादा पाकिस्तान को हुई थी, लेकिन अब सब कुछ सामने आ चुका है.

साल 2007 में हैदराबाद की ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में हुए ब्लास्ट मामले में जुमे की नमाज के दौरान हुए धमाके के मामले में NIA की विशेष कोर्ट ने असीमानंद समेत सभी 5 आरोपियों को बरी कर दिया है. करीब 11 साल पहले 18 मई 2007 को हुए इस धमाके में करीब 9 लोगों की मौत हुई थी, वहीं 58 लोग घायल हुए थे. पिछले 11 साल में इस मामले में कई तरह के नाटकीय मोड़ आए. कई गवाह अपने बयान से पलटे जिसके कारण आज का ये फैसला आया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें