scorecardresearch
 

'बेशर्म' पाकिस्तानः कैप्टन सौरभ कालिया की शहादत पर बोला सफेद झूठ

पाकिस्तान का झूठ एक बार फिर दुनिया के सामने आ गया है. कारगिल जंग के दौरान शहीद हुए कैप्टन सौरभ कालिया के बारे में पाकिस्तान ये कहता रहा कि उनका शव गड्ढे में मिला था, लेकिन इंटरनेट पर तेजी से फैल रहे एक वीडियो से जाहिर हो गया है कि कैप्टन कालिया और उनके 5 साथी, पाकिस्तानी सैनिकों की बेरहमी का शिकार हुए थे.

पाक फौजी भूले पाक फौजी भूले

पाकिस्तान का झूठ एक बार फिर दुनिया के सामने आ गया है. कारगिल जंग के दौरान शहीद हुए कैप्टन सौरभ कालिया के बारे में पाकिस्तान ये कहता रहा कि उनका शव गड्ढे में मिला था, लेकिन इंटरनेट पर तेजी से फैल रहे एक वीडियो से जाहिर हो गया है कि कैप्टन कालिया और उनके 5 साथी, पाकिस्तानी सैनिकों की बेरहमी का शिकार हुए थे.

भारत के वीर सपूत कैप्टन सौरभ कालिया की शहादत को लेकर पाकिस्तान अब तक बोलता आ रहा है, लेकिन पाकिस्तानी सैनिक के यू ट्यूब पर पोस्ट हुए वीडियो ने इस झूठ की पोल खोल दी है.

कैप्टन सौरव कालिया ने करगिल में पाकिस्तानी सैनिकों की बड़ी घुसपैठ का सामना किया था. 5 मई 1999 को कैप्टन कालिया और उनके 5 साथियों को पाकिस्तानी फौजियों ने बंदी बना लिया था. 20 दिन बाद वहां से भारतीय जवानों के शव वापस आए तो अटॉप्सी रिपोर्ट से पता चला कि भारतीय जवानों के साथ पाकिस्तान में हद दर्जे की बेरहमी की गई थी. उन्हें सिगरेट से जलाया गया था. उनके कानों में लोहे की सुलगती छड़ें घुसेड़ी गई थीं.

पाकिस्तान की बेशर्मी देखिए, उसने कभी नहीं माना कि कैप्टन कालिया और उनकी टीम को पाक फौजियों ने शहीद किया था. उलटे पाकिस्तान ये कहता रहा कि उनके शव एक गड्ढे में पड़े मिले थे, लेकिन कारगिल जंग में शामिल रहे इस पाकिस्तानी सैनिक का बयान, सारी कहानी साफ कर देता है.

वीडियो में नायक भूले ने बताया, ‘13 मई 1990 को भारत से हमारे ऊपर हमला हुआ. भारत की ओर से छह लोग हमारी ओर बढ़ रहे थे. वे लोग रेकी गश्त पर थे. वे हमारी चौकी पर कब्जा करना चाहते थे और अगर वे सफल हो जाते तो लेह की ओर जाने वाले रास्ते पर उनका कब्जा हो जाता.’

उसने बताया, ‘उनकी योजना सफल नहीं हुई और हमने उन्हें मार गिराया.’ भूले ने बताया, ‘जब वे करीब आए तब हमने उन्हें पकड़ना चाहा लेकिन वे हमसे दूर भाग गए और तब हमने उन पर गोलीबारी शुरू कर दी.’

उसने बताया कि हमनें नियंत्रण रेखा के उस पार भारतीय बलों को आने और मृत सैनिकों के शव को ले जाने की आवाज लगाई, लेकिन उनके लोगों के पास उनके शव को ले जाने का साहस ही नहीं था.

कारगिल जंग के बाद पाकिस्तान में आयोजित सेना के एक समारोह का ये वीडियो यू ट्यूब पर शेयर किया गया है. इस कार्यक्रम में कारगिल जंग में शामिल रहे पाकिस्तानी फौजियों ने अपना तजुर्बा बयान किया है. अब इंतजार है कि इस खुलासे पर पाकिस्तान के हुक्मरान क्या सफाई देते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें