scorecardresearch
 

इसे कहते हैं भाव...है भाव! BJP के लिए आसान नहीं वरुण गांधी को यूपी का 'सुल्‍तान' बनने से रोकना

बीजेपी आलाकमान लोकसभा चुनावों के बाद से उत्तर प्रदेश में लगातार वरुण गांधी को नजरअंदाज कर रहा है. आइए जानें क्यों नहीं आसान है उस तेवर वाले चेहरे को किनारे करना.

X

वाकई वरुण गांधी को भुला देना आसान नहीं है...बीजेपी यूपी में अपने तेजतर्रार युवा चेहरे को दरकिनार नहीं कर सकती. यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के पहले बीजेपी में पार्टी का चेहरा कौन होगा इसको लेकर माथापच्ची चल रही है. पार्टी आलाकमान लोकसभा चुनावों के बाद से प्रदेश में लगातार एक चेहरे को नजरअंदाज कर रही है. आइए जानें क्यों नहीं आसान है उस तेवर वाले चेहरे को किनारे करना.

1. भारतीय जनता पार्टी के लिए अपने युवा सांसद वरुण गांधी को दरकिनार करना मुश्किल है. खासकर पूर्वी उत्‍तर प्रदेश और उसके आस पास के इलाकों में.

2. वरुण गांधी के भाव का एहसास इस बात से सहज लगाया जा सकता है कि इलाहाबाद में जब बीजेपी की कार्यकारिणी बैठक चल रही है, तब भी वह शहर वरुण गांधी के पोस्‍टर्स से पटा हुआ है. यही नहीं इसके पहले भी समय-समय पर संगम नगरी उनके पोस्‍टर्स से पटी रहती है.

3. पीलीभीत और सुल्‍तानपुर से लगातार सांसद रह चुके इस गांधी को भले ही बीजेपी ने सुल्‍तानपुर तक ही सीमित रहने की इजाजत दी हो, लेकिन पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में धीरे धीरे उनकी बढ़ती लोकप्रियता आलाकमान के इस फैसले को धूमिल कर रही है.

पढ़ें: वरुण गांधी के समर्थन से BJP खफा, कार्यकर्ताओं को जारी किया नोटिस

4. एक सर्वे के मुताबिक नेहरू गांधी परिवार के युवा सदस्‍य और स्‍थानीय होने के चलते वरुण गांधी का व्‍यापक जनाधार है. मतलब वरुण गांधी नंबर वन पर हैं. हालांकि मानव संसाधन विकास मंत्री स्‍मृति ईरानी सर्वे में दूसरे पर हैं, लेकिन स्‍थानीय दिग्‍गजों का कहना है कि वो बाहरी हैं.

5. असम चुनाव परिणामों ने भी यह साबित कर दिया है कि सिर्फ पीएम नरेंद्र मोदी के नाम पर चुनाव नहीं जीते जा सकते. आपको स्‍थानीय चेहरा मैदान में उतारना होगा.

6. अभी हाल में बीजेपी नेता शत्रुघ्‍न सिन्‍हा ने यूपी विधानसभा चुनावों में वरुण को बीजेपी का चेहरा बनाए जाने की वकालत की थी. उन्‍होंने कहा था कि वरुण से ज्‍यादा इस समय यूपी में बीजेपी के लिए कोई उपयुक्‍त उम्‍मीदवार नहीं है. वो पार्टी के लिए मेहनत से काम करते हैं और उनकी वहां स्‍वीकार्यता भी है.

7. शॉट गन ने यह भी कहा कि बीजेपी को बिहार जैसी गलती नहीं करनी चाहिए. अगर ऐसा हुआ तो यूपी में भी बीजेपी को नुकसान उठाना पड़ सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें